scorecardresearch
 

सायना की सनसनीखेज हार, कश्यप दूसरे दौर में

शीर्ष वरीय और खिताब की प्रबल दावेदार सायना नेहवाल बुधवार को जापान की अई गोटो के हाथों उलटफेर का शिकार होकर 200000 डालर इनामी इंडियन ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर से ही बाहर हो गई जबकि शीर्ष भारतीय पुरुष खिलाड़ी पी कश्यप अगले दौर में जगह बनाने में सफल रहे.

शीर्ष वरीय और खिताब की प्रबल दावेदार सायना नेहवाल बुधवार को जापान की अई गोटो के हाथों उलटफेर का शिकार होकर 200000 डालर इनामी इंडियन ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर से ही बाहर हो गई जबकि शीर्ष भारतीय पुरुष खिलाड़ी पी कश्यप अगले दौर में जगह बनाने में सफल रहे.

दुनिया की चौथे नंबर की खिलाड़ी सायना को सिरी फोर्ट खेल परिसर में जापानी खिलाड़ी ने दिन का सबसे बड़ा उलटफेर करते हुए 34 मिनट में 21-17, 21-19 से हराया. दूसरी तरफ कश्यप ने स्लोवाकिया के माइकल मातेका को सिर्फ 21 मिनट में 21-7, 21-15 से शिकस्त दी.

भारत के लिए हालांकि आज के हीरो आरएमवी गुरुसाइदत्त रहे जिन्होंने दुनिया के पांचवें नंबर के खिलाड़ी थाईलैंड के बूनसैक पोनसाना को कड़े मुकाबले में एक घंटे और तीन मिनट में 22-20, 18-21, 21-19 से हराया. पुरुष एकल में क्वालीफायर सौरभ वर्मा ने भी उलटफेर करते हुए इंडोनेशिया के सोनी ड्वी कुनकोरो को 41 मिनट में 21-18, 21-19 से बाहर किया.

पुरूष एकल में अजय जयराम, बी साइ प्रणीत, एचएस प्रणय, आनंद पवार, अरविंद भट और अनूप श्रीधर को पहले दौर में ही हार का सामना करना पड़ा जबकि महिला एकल में सायना के साथ भारत की अन्य सभी खिलाड़ियों अदिति मुटाटकर, तृप्ति मुरगुंडे, पीवी सिंधु और सयाली गोखले का सफर भी पहले दौर में ही थम गया.

सायना को दुनिया की 24वें नंबर की खिलाड़ी गोटो के खिलाफ शुरू से ही लय हासिल करने के लिए जूझना पड़ा. पहले गेम में अधिकतर समय जापानी खिलाड़ी ने बढ़त बनाये रखी और जब सायना ने 17-20 के स्कोर पर शटल को नेट पर उलझाया तो गोटो ने 1-0 की बढ़त बना ली. सायना ने दूसरे गेम में बेहतर खेल दिखाया लेकिन 19-16 की बढ़त पर उन्होंने कई गलतियां करते हुए लगातार पांच अंक हारकर गेम और मैच गंवा दिया.

भारतीय खिलाड़ी ने मैच के बाद कहा कि विरोधी के ऐसे खेल के लिए वह तैयार नहीं थी. उन्होंने कहा, ‘उसने काफी तेज खेल दिखाया. मैं इस तरह के शाट के लिए तैयार नहीं थी और मुझे मूव करने में भी कुछ दिक्कत हो रही थी.’ गोटो ने इस जीत को अपनी सर्वश्रेष्ठ जीत में से एक करार दिया. उन्होंने कहां, ‘यह मेरे कैरियर की सर्वश्रेष्ठ जीत में से एक है.

सायना काफी मजबूत खिलाड़ी है लेकिन आज वह कुछ दबाव में थी और धीमा खेल रही थी जिसका मैंने फायदा उठाया.’’ पुरुष एकल में दुनिया के 23वें नंबर के खिलाड़ी कश्यप ने विरोधी खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया. पहला गेम बेहद आसानी से 21 - 7 से जीतने के बाद उन्होंेने दूसरे गेम भी आसानी से अपने नाम कर लिया. इस भारतीय खिलाड़ी को अब अगले दौर में दूसरे वरीय तौफीक हिदायत की कड़ी चुनौती का सामना करना है जिन्होंने पहले दौर में अनूप को एकतरफा मैच में 21-13, 21-5 से हराया.

कश्यप ने मैच के बाद कहा, ‘यह काफी आसान मैच था. अब असली परीक्षा कल (तौफीक के खिलाफ) होगी. मैं तौफीक की चुनौती के लिए तैयार हूं और अगर मैं उसे हराने में सफल रहता हूं तो मुझे खुशी होगी.’

गुरुसाइदत्त को हालांकि अपने से बेहतर रैंकिंग वाले पोनसाना के खिलाफ कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. दुनिया के 52वें नंबर के खिलाड़ी ने पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए पहला गेम 22-20 से जीता लेकिन दूसरे गेम में लय गंवा दी.

भारतीय खिलाड़ी ने अंतिम गेम में पोनसाना को कोई मौका नहीं दिया और 20-13 के स्कोर पर छह मैच प्वाइंट गंवाने के बावजूद गेम और मैच अपने नाम किया. गुरुसाइदत्त को अगले दौर में बेल्जियम के युहान टेन से भिड़ना है. इस भारतीय खिलाड़ी ने कहा कि वह पिछले काफी समय से कड़ी मेहनत कर रहे थे और उन्हें इस तरह की जीत का इंतजार था.

उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले काफी समय से कड़ी मेहनत कर रहा था और मुझे इस तरह की जीत का इंतजार था. मैंने दूसरे गेम में कुछ गलतियां की लेकिन तीसरे गेम में दबदबा बनाये रखा.’’ इससे पहले सौरभ ने भी दुनिया के 37वें नंबर के खिलाड़ी कुनकोरो को बाहर का रास्ता दिखाया. भारतीय खिलाड़ी को अगले दौर में सातवें वरीय जापान के केनिची टोगो से भिड़ना है जिन्होंने फ्रांस के ब्राइस लेवरडेज को 25-23, 21-13 से हराया.

दुनिया के 230वें नंबर के खिलाड़ी सौरभ ने कुनकोरो के खिलाफ तेज शुरूआत की और अपने बेहतर स्मैश और क्रास कोर्ट रिटर्न से अधिकतर समय इंडोनेशियाई खिलाड़ी पर दबदबा बनाकर रखा. सौरभ ने कहा, ‘‘यह मेरे कैरियर की सबसे बड़ी जीत है. मैं विरोधी खिलाड़ी के स्तर से डरा नहीं. मैं सिर्फ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता था और मुझे खुशी है कि मैं जीत दर्ज करने में सफल रहा.’

अजय ने दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी ली चांग वेई के खिलाफ ठोस प्रदर्शन किया लेकिन उनके पास मलेशियाई खिलाड़ी के अनुभव का कोई जवाब नहीं था. शीर्ष वरीय ली ने यह मैच 37 मिनट में 21-19, 21-18 से जीता.

पुरुष एकल के अन्य मैचों में आनंद को जापान के शो ससाकी ने 19-21, 21-17, 21-12 से, अरविंद को छठे वरीय कोरिया के सुंग ह्वान पार्क ने 21-14, 21-16 से, प्रणीत को हांगकांग के वोंग विंग की ने 21-19, 21-12 जबकि एचएस प्रणय को कोरिया के शोन वान हो ने 21-14, 21-12 से हराया.

महिला एकल में सयाली को एक गेम जीतने के बावजूद सिंगापुर की जियायुआन चेन के हाथों 58 मिनट में 21-23, 21-15, 19-21 से हार झेलनी पड़ी. पंद्रह वर्षीय सिंधु ने भी अपनी आठवीं वरीय प्रतिद्वंद्वी सलाकजीत पोनसाना को कड़ी टक्कर थी लेकिन थाईलैंड की खिलाड़ी 21-19, 22-20 से जीतने में सफल रही.

अदिति के पास हांगकांग की चौथी वरीय यिप पुइ यिन का कोई जवाब नहीं था और उन्हें एकतरफा मुकाबले में 21-14, 21-8 से हार का सामना करना पड़ा. तृप्ति को इंडोनेशिया की अपरीला युसवांदरी ने 21-12, 21-5 से हराया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें