scorecardresearch
 

रामदेव के सहयोगी बालकृष्ण हुए ‘लापता’

उत्तराखंड पुलिस द्वारा योग गुरू बाबा रामदेव को घेरे में लेने की तैयारी के बीच उनके निकटतम सहयोगी आचार्य बालकृष्ण का पिछले दो दिनों से कोई पता नहीं है.

आचार्य बालकृष्ण आचार्य बालकृष्ण

उत्तराखंड पुलिस द्वारा योग गुरू बाबा रामदेव को घेरे में लेने की तैयारी के बीच उनके निकटतम सहयोगी आचार्य बालकृष्ण का पिछले दो दिनों से कोई पता नहीं है.पुलिस सूत्रों ने बताया कि बालकृष्ण के सोमवार से लापता होने के बाद से उनकी कोई जानकारी नहीं मिली हैं.

पुलिस उनके लापता होने के मामले की जांच कर रही है. हरिद्वार के शहर पुलिस अधीक्षक किरन लाल शाह ने बताया कि बालकृष्ण के गनर जयेन्द्र सिंह आसवाल ने कल रात कनखल थाने में बालकृष्ण के गायब होने की लिखित सूचना दी, जिसके आधार पर मामला दर्ज कर लिया गया है और पूरे मामले की जांच की जा रही है.

आसवाल की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार सुबह आसवाल आचार्य बालकृष्ण को उनके दिव्य योग आश्रम के आवास पर पहुंचा ताकि वह उनको लेकर पतंजलि योगपीठ के कार्यालय जाये, लेकिन बालकृष्ण ने उससे कार्यालय जाने को कहा.

बालकृष्ण ने उससे कहा कि वह बाद में कार्यालय पहुंच जायेंगे लेकिन शाम तक बालकृष्ण अपने कार्यालय नहीं पहुंचे. इसके बाद आसवाल ने उनकी पता लगाया लेकिन वह नहीं मिले तब जाकर उसने कनखल थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी.

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट दर्ज किये जाने के बाद से ही पुलिस ने बालकृष्ण का पता करने के लिये जांच शुरू कर दी है. हालांकि, अभी तक उनका कोई पता नहीं चला है. बालकृष्ण पतंजलि योगपीठ में भी नहीं हैं.

दूसरी ओर, कनखल थाना सूत्रों ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज किये जाने के बाद बालकृष्ण के निजी सचिव से जब पूछताछ की गयी तो बताया गया कि वह किसी कार्य से कहीं गये हुये हैं और जल्द ही लौट आयेंगे.

सूत्रों के अनुसार बालकृष्ण को खोजने का कार्य कांवड़ मेले के बाद से ही शुरू होगा क्योंकि वर्तमान में हरिद्वार में कांवड़ मेले के चलते भारी भीड आ गयी है.

दूसरी तरफ, केन्द्रीय जांच ब्यूरो द्वारा योग गुरू बाबा रामदेव और उनके सहयोगी बालकृष्ण के खिलाफ जांच की प्रक्रिया तेज करने के बाद अब उत्तराखंड पुलिस ने भी बाबा रामदेव को अपने घेरे में लेने की तैयारी शुरू कर दी है.

हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक केवल खुराना ने बताया कि कांवड़ मेले के बाद जिले में लोगों के गुमशुदगी के मामलों की जांच की जायेगी, जिसमें बाबा रामदेव के गुरू शंकरदेव भी शामिल हैं. बाबा रामदेव के गुरू पिछले चार वर्षों से लापता हैं.

खुराना ने कहा कि जिले में लातपा हुये लोगों के मामले की जांच का उन्होंने आदेश दिया है और कांवड़ मेले के बाद यह जांच शुरू की जायेगी.

खुराना ने कहा कि जिन लापता हुये लोगों की जांच पहले की गयी थी उनके मामले की विवेचना की जायेगी. यदि आवश्यकता पड़ी तो उन मामलों की जांच पुलिस की विशेष जांच टीम (एसआईएस) द्वारा करायी जायेगी. इसमें बाबा रामदेव के गुरू के लापता होने का मामला भी शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें