scorecardresearch
 

नोएडा के हाइप्रोफाइल किडनैपिंग का पर्दाफाश

क्या आपने कभी 4 करोड़ 25 लाख रुपए एक साथ देखे हैं. वो भी हजार हजार के नोट में. नोएडा पुलिस आपकी ये हसरत भी पूरी कर रही है. मामला एक हाईप्रोफाइल अपहरण केस से जुड़ा है जिसमे 5 करोड़ की फिरौती दी गई लेकिन 19 दिन के बाद अपहरणकर्ताओं के गैंग से 4 करोड़ 25 लाख बरामद कर लिया गया.

क्या आपने कभी 4 करोड़ 25 लाख रुपए एक साथ देखे हैं. वो भी हजार हजार के नोट में. नोएडा पुलिस आपकी ये हसरत भी पूरी कर रही है. मामला एक हाईप्रोफाइल अपहरण केस से जुड़ा है जिसमे 5 करोड़ की फिरौती दी गई लेकिन 19 दिन के बाद अपहरणकर्ताओं के गैंग से 4 करोड़ 25 लाख बरामद कर लिया गया.

दरअसल पूरा मामला जुड़ा है एक हाईप्रोफाइल किडनैपिंग से जिसमे किडनैप होने वाला शख्स है नोएडा का एक रईस उद्योगपति. जिसमें अपहरण करने वाला गैंग है मेरठ का और जिसमे फिरौती में दी गई 5 करोड़ की रकम में से बरामद हिस्सा है 4 करो़ड़ 25 लाख रुपए का.

अपहरण, फिरौती और बरामदगी की ये पूरी कहानी जुड़ी है नोएडा के एक रईस उद्योगपति से. 21 सितंबर की शाम को कपिल गुप्ता का अपहरण होता है और ग्रेटर नोएडा में उन्हें बंधक रखा जाता है. 24 सितंबर को उनकी रिहाई हो जाती है लेकिन 19 दिनों के बाद होते हैं एक नहीं बल्कि 10 मुजरिम गिरफ्तार.

कपिल गुप्ता नाम है नोएडा के इस उद्योगपति का जिसके इर्द-गिर्द ही बुनी हुई है ये पूरी कहानी. 21 सितंबर की तारीख थी जब कपिल गुप्ता दिल्ली से अपनी मर्सिडीज कार में नोएडा सेक्टर 15ए स्थित अपने घर लौट रहे थे. तभी डीएनडी फ्लाईओवर के पास एक कार में सवार अपहरणकर्ताओं ने शाम के करीब साढ़े 6 बजे उनका अपहरण कर लिया.

22 सितंबर की सुबह पहली बार अपहरणकर्ताओं ने कपिल गुप्ता के घर फिरौती के लिए फोन किया. फिरौती में 5 करोड़ रुपए की मांग की गई. कपिल गुप्ता के परिवार ने पुलिस में कोई खबर नहीं की. 24 सितंबर को सुबह फिरौती की 5 करोड़ की रकम मेरठ में दौराला के पास पहुंचा दी गई और 24 सितंबर को शाम के वक्त अपरहरणकर्ताओं ने कपिल गुप्ता को उनके घर के पास छोड़ दिया.

पुलिस लगातार घटना पर नजर बनाए हुए थी और कपिल गुप्ता के अपहरण के 19 दिन के बाद यानी 11 अक्टूबर की सुबह पहली गिरफ्तारी हुई मेरठ से. धीरे-धीरे मामले का खुलासा होता गया और गैंग के 10 अपराधी शाम होते-होते गिरफ्तार कर लिए गए और बरामद हो गई कुल फिरौती में से 4 करोड़ 25 लाख की रकम.

फिरौती की कॉल के लिए ये गैंग कपिल गुप्ता का फोन ही इस्तेमाल करता था. पुलिस के मुताबिक इस अपहरणकांड के पीछे मेरठ के कपिल जाट के गैंग का हाथ है जिसमें मेरठ, दिल्ली और ग्रेटर नोएडा के लड़के शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें