scorecardresearch
 

वाराणसी ब्लास्टः नवी मुंबई से भेजा गया था ईमेल, 2 लोग हिरासत में लिए गए

वाराणसी में हुए धमाके की जिम्मेदारी लेते हुए प्रतिबंधित आतंकवादी समूह इंडियन मुजाहिदीन ने मीडिया को जो ई मेल भेजा था, उसके सिलसिले में पुलिस ने यहां एक पिता-पुत्र को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया.

वाराणसी ब्लास्ट के सिलसिले में 5 लोग हिरासत में लिए गए हैं. इनमें से तीन को बनारस में एटीएस ने हिरासत में लिया है, जबकि 2 लोगों से नवी मुंबई में पूछताछ की जा रही है.

ये दो लोग ई-मेल के सिलसिले में पकड़े गए हैं. ई-मेल नवी मुंबई के वाशी से भेजा गया था. खबर मिल रही है कि सेक्टर-17 के मानसरोवर बिल्डिंग से मेल भेजा गया था और इसके लिए वाई-फाई का इस्तेमाल किया गया था.

इसी सिलसिले में 2 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक मेल भेजते वक्त आईएम के लोग इसी इलाके में मौजूद थे. पुलिस ने एक पिता-पुत्र को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया.

यह ई मेल नवी मुंबई के एक रिहाइशी परिसर से भेजा गया था. इसमें वाराणसी के गंगा घाट पर मंगलवार शाम हुए बम धमाके की जिम्मेदारी ली गई है. धमाके में एक बच्ची मारी गई और 37 अन्य घायल हुए.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यह ई मेल पांच पन्नों का है. इंडियन मुजाहिदीन ने एयरटेल ब्रॉडबैंड की एक असुरक्षित वाईफाई प्रणाली का इस्तेमाल करके इसे भेजा.

उन्होंने बताया कि पिता-पुत्र से पूछताछ की गई और बाद में छोड़ दिया गया. {mospagebreak}

मुंबई पुलिस आयुक्त संजीव दयाल ने बताया कि यह ई मेल नवी मुंबई से किया गया था.

उल्लेखनीय है कि इंडियन मुजाहिदीन के आतंकवादी, धमाके के बाद मीडिया को ई मेल भेजने के लिए असुरक्षित वाईफाई कनेक्शनों का इस्तेमाल करते रहे हैं.

सूत्रों ने बताया कि मंगलवार शाम धमाके के बाद भेजे गये इस ई मेल के लिए जी-मेल का इस्तेमाल किया गया. इस मेल को छह दिसम्बर को ही लिख लिया गया था.

ब्लास्ट के बाद गृह मंत्री पी चिदंबरम वाराणसी के लिए रवाना हो चुके हैं. गृह मंत्री वहां हालात का जायजा लेंगे. इसके पहले गृह मंत्रालय में ब्लास्ट को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक भी हुई.

गंगा की पवित्र धार की तरह वाराणसी में उल्लास और जिंदगी की रफ्तार कभी नहीं थमती. मंगलवार की शाम साढ़े छे बजे शीतला घाट पर बम धमाका हुआ. अभी ब्लास्ट हुए 24 घंटे भी नहीं गुजरे हैं जब आज सुबह पांच बजे काली रात के साथ लोगों के मन से आतंक का खौफ भी उतर चुका है. घाट पर फिर से गाए जा रहे हैं भजन और पूजा-पाठ शुरू हो गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें