scorecardresearch
 

हरभजन का शतक, भारत और न्यूजीलैंड टेस्ट ड्रा

हरभजन सिंह के कैरियर के पहले शतक और वीवीएस लक्ष्मण के साथ उनकी रिकार्ड शतकीय साझेदारी की मदद से भारत क्रिस मार्टिन की तूफानी गेंदबाजी से संकट में आने के बावजूद भी न्यूजीलैंड के खिलाफ पहला क्रिकेट टेस्ट ड्रा कराने में सफल रहा.

X

हरभजन सिंह के कैरियर के पहले शतक और वीवीएस लक्ष्मण के साथ उनकी रिकार्ड शतकीय साझेदारी की मदद से भारत क्रिस मार्टिन की तूफानी गेंदबाजी से संकट में आने के बावजूद भी न्यूजीलैंड के खिलाफ पहला क्रिकेट टेस्ट ड्रा कराने में सफल रहा.

पहली पारी में अपने कैरियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 69 रन बनाने वाले हरभजन ने सोमवार को इससे एक कदम और आगे बढ़ते हुए 193 गेंद में 11 चौकों और तीन छक्कों की मदद से 115 रन की पारी खेली जो प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भी उनका पहला शतक है. लक्ष्मण (91) हालांकि दुर्भाग्यशाली रहे और अंपायर के खराब फैसले के कारण मात्र नौ रन से शतक चूक गये.

भारत ने दूसरी पारी में अपने पांच विकेट 15 रन पर गंवा दिये थे जिसके बाद लक्ष्मण और हरभजन के बीच सातवें विकेट के लिये 163 रन की साझेदारी की मदद से मेजबान टीम 266 रन बनाने में सफल रही जिससे न्यूजीलैंड को 295 रन का लक्ष्य मिला. {mospagebreak}

न्यूजीलैंड ने इसके जवाब में दूसरी पारी में टिम मैकिनटोश (00) का विकेट गंवाने के बाद 10 ओवर में एक विकेट पर 22 रन बनाये जब दोनों कप्तान मैच बराबरी पर समाप्त करने को राजी हो गये. मैकिनटोश को पारी के पहले ओवर में तेज गेंदबाज जहीर खान ने पगबाधा आउट किया लेकिन ब्रैंडन मैकुलम (नाबाद 11) और बीजे वाटलिंग (नाबाद 2) ने इसके बाद न्यूजीलैंड को झटके नहीं लगने दिये.

दोनों टीमें अब हैदराबाद जाएंगी जहां राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में 12 से 16 नवंबर के बीच दूसरा टेस्ट खेल जाएगा.

भारत के लिए अंतिम दिन के नायक हरभजन रहे जिन्होंने डेनियल विटोरी पर छक्के के साथ अपने कैरियर का पहला शतक पूरा किया. कई मौकों पर भारत को संकट से उबारने वाले लक्ष्मण ने एक बार फिर ‘संकटमोचक’ की भूमिका निभाई और धर्य के साथ बल्लेबाजी करते हुए हरभजन के साथ मिलकर भारत की हार को टाला. {mospagebreak}

लक्ष्मण हालांकि उस समय दुर्भाग्यशाली रहे जब विटोरी की गेंद पर अंपायर स्टीव डेविस ने उन्हें पगबाधा आउट दे दिया. टीवी रीप्ले में साफ दिखा कि गेंद बल्ले से टकराने के बाद पैड पर लगी. लक्ष्मण ने 253 गेंद की अपनी पारी में नौ बार गेंद को बाउंड्री तक पहुंचाया. हरभजन और लक्ष्मण ने लगभग चार घंटे की अपनी साझेदारी के दौरान 328 गेंद का सामना किया.

लक्ष्मण और हरभजन ने छह विकेट पर 65 रन के स्कोर से भारतीय पारी को संभालना शुरू किया था और सोमवार को चाय के विश्राम से कुछ देर पहले तक दोनों की साझेदारी चली. इन दोनों ने इस बीच न्यूजीलैंड के खिलाफ सातवें विकेट की साझेदारी का नया रिकार्ड बनाया. इससे पहले का रिकार्ड सचिन तेंदुलकर और किरण मोरे के नाम पर था जिन्होंने 1990 में नेपियर में 128 रन जोड़े थे.

लक्ष्मण के आउट होने के बाद विटोरी ने अगली गेंद पर जहीर खान को भी आउट कर दिया लेकिन यह फैसला भी संदिग्ध था. टीवी रीप्ले से लग रहा था कि गेंद ने बल्ले का अंदरूनी किनारा लिया था. विटोरी अगली गेंद पर हैट्रिक पर थे लेकिन ओझा ने उसे बचा दिया. भारत पांचवें और अंतिम दिन सुबह जब छह विकेट पर 82 रन से आगे खेलने उतरा तो लक्ष्मण 34 जबकि हरभजन 12 रन बनाकर खेल रहे थे. लक्ष्मण ने इसके बाद 154 गेंद में अपना 47वां अर्धशतक पूरा किया जबकि हरभजन ने सिर्फ 78 गेंद में अर्धशतक जमाया. {mospagebreak}

भारत ने पहले सत्र में 30 ओवर में 82 रन बटोरे जबकि इस दौरान एक भी विकेट नहीं गंवाया. इससे पहले रविवार को मार्टिन (63 रन पर पांच विकेट) ने पांच विकेट चटकाकर भारत को मुश्किल में डाल दिया था लेकिन सोमवार को वह एक भी विकेट हासिल नहीं कर पाये. हरभजन चाय के बाद कामचलाऊ गेंदबाज रोस टेलर की गेंद पर वाटलिंग को कैच देकर पवेलियन लौटे जो इस गेंदबाज का पहला टेस्ट विकेट भी रहा. टेलर ने इसके बाद एस श्रीसंत (04) को विकेटकीपर गैरेथ होपकिन्स के हाथों कैच कराकर भारतीय पारी का अंत किया.

भारतीय टीमः
गौतम गंभीर, वीरेंद्र सहवाग, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, वी.वी.एस. लक्ष्मण, सुरेश रैना, महेंद्र सिंह धोनी, हरभजन सिहं, जहीर खान, श्रीसंत, प्रज्ञान ओझा.

न्यूजीलैंड टीमः
ब्रेंडल मैक्यूलम, टिम मैकिंतोश, बी.जे. वाटलिंग, रॉस टेलर, जेस राइडर, केन विलियम्सन, डेनियल विटोरी, गारेथ हॉपकिंस, जीतन पटेल, हमीश बेनेट्ट, क्रिस मार्टिन.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें