scorecardresearch
 

अधिकार के लिए लड़ रहीं महिलाएं, पर चुनौतियां अब भी कायम

दुनिया भर में अपने अधिकार के लिए संघर्ष के दौरान महिलाओं को कथित तौर पर शारीरिक शोषण और बल प्रयोग जैसी अनचाही घटनाओं का भी सामना करना पड़ा है.

महिलाएं महिलाएं

मिस्र और ट्यूनीशिया में हाल के विद्रोह के दौरान सरकार के विरोध में सड़कों पर उतरीं महिलाओं को देश-दुनिया ने देखा और अधिकारों की लड़ाई में उनकी भूमिका को सराहा भी, लेकिन तस्वीर का एक पहलू यह भी है कि दुनिया भर में अपने अधिकार के लिए संघर्ष के दौरान महिलाओं को कथित तौर पर शारीरिक शोषण और बल प्रयोग जैसी अनचाही घटनाओं का भी सामना करना पड़ा है.

रोजमर्रा के जीवन में ऐसे मामलों से दो-चार होने वाले विशेषज्ञों का मानना है कि जागरुक हो रही महिलाओं को कुचलने का सबसे आसान तरीका उनके शारीरिक शोषण को ही समझा जाता है और ऐसे में उन्हें स्वयं ही अपनी रक्षा के लिए चौकस रहना चाहिए.

मिस्र में प्रदर्शन के दौरान महिलाओं की स्थिति की ओर सबकी नजर पिछले दिनों उस समय पड़ी, जब सीबीएस न्यूज की एक रिपोर्टर लारा लोगान के कथित तौर पर यौन शोषण की खबरें सुखिर्यों में आईं.

लारा काहिरा में प्रदर्शन कवर करने गईं थीं, तभी अचानक वह अपने दल से अलग हो गईं. इसी दौरान उनके साथ कथित तौर पर शारीरिक शोषण की घटना हुई. लारा को इसके बाद महिलाओं के एक दल ने बचाया.

डॉ. गुरदीप के मुताबिक, ‘ये सच है कि राष्ट्र पर आई किसी भी विपरीत परिस्थिति में उपद्रवियों का सबसे आसान शिकार महिलाएं ही होती हैं. 09/11 के बाद भी अमेरिका में वर्ग विशेष की महिलाओं को ऐसी ही विपरीत परिस्थितियों और डर के साये में रहना पड़ा था.’

मिस्र और श्रीलंका में हुईं ऐसी कई कथित घटनाओं के बारे में डॉ. गुरदीप ने कहा, ‘दबावकारी शक्तियां, भले ही वे सुरक्षा बल हों या असामाजिक तत्व, उनका जब जोर नहीं चलता, तो उन्हें प्रदर्शनों को कुचलने का एकमात्र तरीका महिलाओं का शारीरिक शोषण लगता है. ऐसी कई खबरों के बीच भी मिस्र और ट्यूनीशिया जैसे देशों में महिलाएं डटी रहीं, ये उनकी हर स्थिति में हिम्मत बनाए रखने की प्रवृत्ति को प्रदर्शित करती है’

उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकारों की दिशा में काम करने वाले संगठन ‘ह्यूमन राइटॅस वॉच’ ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बात पर जोर दिया था कि मिस्र में महिला प्रदर्शनकारियों को शारीरिक शोषण का सामना भी करना पड़ रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक, एक प्रदर्शनकारी को हिरासत में लेकर सुरक्षा बलों ने उसकी मां का भी शोषण किया, जिसके बाद महिलाएं सुरक्षा बलों के विरोध में खुल कर सामने आने लगीं.

8 मार्च, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें