scorecardresearch
 

रिटेल में एफडीआई कुछ लोगों के लिए कमाई का जरिया: वीके सिंह

पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह ने शनिवार को कहा कि खुदरा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई ) देशहित में नहीं बल्कि उन लोगों के हित में है जो वालमार्ट जैसे खुदरा व्यावसायिक संस्थानों को देश में आने की इजाजत देने से लाभ कमा सकते हैं.

पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह

पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह ने शनिवार को कहा कि खुदरा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई ) देशहित में नहीं बल्कि उन लोगों के हित में है जो वालमार्ट जैसे खुदरा व्यावसायिक संस्थानों को देश में आने की इजाजत देने से लाभ कमा सकते हैं.

सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा, ‘रिलायंसफ्रेश के आने के कुछ समय बाद उन लोगों ने विक्रेताओं पर दबाव डालना शुरू किया कि वे अपने सामान कम कीमत पर बेचें. एफडीआई हमारे देश के हित में नहीं बल्कि केवल उन लोगों के हित में हैं जो धन कमाना चाहते हैं या जिन पर इसे देश में लागू करने के लिए बाहर से दबाव है.’

'वालमार्ट को भारत में प्रवेश देने का क्या औचित्य'
उन्होंने कहा, ‘वालमार्ट न्यूयार्क में बंद हो चुका है क्योंकि उसकी श्रृंखला ने छोटे खुदरा व्यापारियों को तबाह कर दिया.’ सिंह ने कहा कि उन्होंने राजनीति में प्रवेश करने को लेकर विचार नहीं किया है लेकिन उनका यह प्रयास होगा कि वह लोगों को इस बात के लिए जागरूक करें कि वे भ्रष्टाचार मुक्त शासन के लिए लोकसभा में ‘545 अच्छे लोगों’ को भेजें.

सिंह ने कहा कि जब अमेरिका में ही न्यूयार्क से वालमार्ट को बाहर कर दिया गया है तो भारत में उसे प्रवेश देने का क्या औचित्य है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें