scorecardresearch
 

'दोस्तों के बिना नौकरी पर मन नहीं लग रहा', पुलिस कॉन्सटेबल ने दिया छुट्टी का आवेदन

जोधपुर के राजीव गांधी पुलिस थाने में कार्यरत पुलिसकर्मी राजेश ने थानाधिकारी अनिल यादव को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि उसके साथी कांस्टेबल रामकरण और कर्ण सिंह बीमार हो गए हैं जिसकी वजह से दोनों छुट्टी लेकर गांव चले गए हैं. उनके गांव चले जाने से वह बहुत परेशान हो गया है. ऐसे में उसका भी यहां बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा है और वह अकेला काम नहीं कर सकता. इसलिए उसे भी कुछ दिनों का अवकाश दिया जाए.

Rajasthan Police Rajasthan Police
स्टोरी हाइलाइट्स
  • छुट्टी का अजीबोगरीब आवेदन
  • स्वीकार हुआ छुट्टी का आवेदन

आम तौर पर लोगों को निजी या सरकारी सभी नौकरियों में छुट्टी लेने में परेशानी होती है. कई बार तो लोग गंभीर बहाने भी बना देते हैं. लेकिन क्या आपने कभी ऐसा सुना है कि किसी ने छुट्टी का आवेदन करते हुए कहा हो कि इन दिनों काम में मन नहीं लग रहा छुट्टी चाहिए. ये बिल्कुल आम नहीं है. लेकिन राजस्थान में ऐसा ही कुछ हुआ है.

राजस्थान में पुलिसकर्मियों में आपसे दोस्ती किस तरह गहरी होती है इसका एक उदाहरण जोधपुर के राजीव गांधी थाना के कॉन्सटेबल के अवकाश को लेकर लिखे गए पत्र से समझा जा सकता है.

राजीव गांधी पुलिस थाने में कार्यरत पुलिसकर्मी राजेश ने थानाधिकारी अनिल यादव को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि उसके साथी कॉन्सटेबल रामकरण और कर्ण सिंह बीमार हो गए हैं जिसकी वजह से दोनों छुट्टी लेकर गांव चले गए हैं. उनके गांव चले जाने से वह बहुत परेशान हो गया है. ऐसे में उसका भी यहां बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा है और वह अकेला काम नहीं कर सकता. इसलिए उसे भी कुछ दिनों का अवकाश दिया जाए.

अपने अवकाश पत्र में इसके लिए कॉन्सटेबल राजेश ने दो दिन का अवकाश और दो राजकीय अवकाश स्वीकृत करने के लिए निवेदन किया है. यहां कॉन्सटेबल की भावना समझते हुए थानाधिकारी अनिल यादव ने छुट्टी के आवेदन को 12 जनवरी को स्वीकृत कर दिया. लेकिन राजेश द्वारा अवकाश के लिए लिखा गया पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जो अब चर्चा का विषय बना हुआ है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×