scorecardresearch
 

अलवरः हत्या के बाद सियासत गरमाई, बीजेपी ने गहलोत सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

अलवर जिले के मालाखेड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत बालेटा गांव में एक शख्स की झगड़े में दूसरे पक्ष द्वारा हमला कर हत्या करने के बाद हिंदूवादी संगठनों और बीजेपी नेताओं ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने के बाहर धरना प्रदर्शन किया.

X
एक शख्स की मौत के बाद अलवर में लोगों ने किया जमकर प्रदर्शन (फोटो-शरत)
एक शख्स की मौत के बाद अलवर में लोगों ने किया जमकर प्रदर्शन (फोटो-शरत)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • शव के साथ बीजेपी के कार्यकर्ता कर रहे प्रदर्शन
  • विशेष समुदाय द्वारा की गई यह वारदातः बीजेपी
  • पुलिस पर आरोपियों को बचाने का आरोप लगा

राजस्थान के अलवर जिले के मालाखेड़ा में एक शख्स की हुई हत्या के बाद सियासत गरमा गई है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं ने शुक्रवार को परिजनों के साथ मिलकर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है और धरना देकर सरकार तथा पुलिस को घेरा.

मृतक के परिजनों ने आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने तक शव लेने से इंकार कर दिया है. मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने इस मामले में मेवात इलाके में सरकार पर हिंदुओं पर अत्याचार का आरोप लगाया है.

भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष समेत पार्टी की एक पूरी टीम मामले की जांच के लिए गई और शव के साथ बीजेपी के कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं.

पुलिस पर भी सवाल
बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि खूनी संघर्ष में एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई और 3 लोग घायल हो गए. उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस की बिना सहमति के यह संभव नहीं है और एक विशेष समुदाय द्वारा यह वारदात की गई है.

उन्होंने इस संबंध में अलवर जिला कलेक्टर से भी बात की. उन्होंने एक आश्रित को संविदा पर नौकरी पर रखने का आश्वासन दिया है और आर्थिक सहायता मुहैया कराने की भी बात कही है. उन्होंने बीट इंचार्ज पुलिस उपाधीक्षक एवं थानेदार को बदलने की मांग की है जिससे वहां निष्पक्ष जांच हो सके.

SHO और CO को हटाया जाए
अलवर जिले के मालाखेड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत बालेटा गांव में एक शख्स की झगड़े में दूसरे पक्ष द्वारा हमला कर हत्या करने के बाद हिंदूवादी संगठनों और बीजेपी नेताओं ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने के बाहर धरना प्रदर्शन किया और मालाखेड़ा थाना पुलिस तथा सीओ ग्रामीण सपात खान पर आरोपियों को जानबूझकर बचाने का आरोप लगाया है.

हिंदूवादी संगठनों के लोगों ने आरोप लगाया कि समाज विशेष के आरोपियों ने पुलिस बचाने में जुटी हुई है इसलिए एसएचओ और सीओ को यहां से हटाया जाए.

क्या है मामला
बालेटा गांव निवासी धर्मी जोगी (52) गुरुवार को खेत पर तारबंदी का काम कर रहे थे तभी गांव के ही रहने वाले रहमत, गिलड़ और तैयब के परिवार के करीब दो दर्जन लोग मोटरसाइकिल से पहुंचे और उन पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया.

हमले में बुरी तरह से घायल धर्मी जोगी की मौके पर मौत हो गई जबकि उनके परिवार के 3 अन्य लोग घायल हो गए. जिनका उपचार चल रहा है. मृतक के पुत्र राजेश ने बताया कि हम परिवार के लोग अपने खेत पर तारबंदी कर रहे थे जहां पर रहमत कई लोगों के साथ मोटरसाइकिल के साथ आया और उन्होंने लाठी-डंडे से मारपीट शुरू कर दी.

राजेश ने बताया कि जहां मेरा भाई हरिओम महेंद्र बुरी तरह घायल हो गया तथा मेरे पैर में फ्रैक्चर हो गया. वहीं मेरी बहन सविता ने खेत से भाग कर अपनी जान बचाई. वरना उसकी भी हत्या कर देते. मारपीट करके सभी हत्यारों ने मिलकर हमारी पिक अप को भी लूट कर ले गए.  उन्होंने यह भी बताया कि मारपीट के दौरान उन्होंने फायरिंग भी की और ऐलान करते हुए गए कि पुलिस में केस कर दिया तो सबको खत्म कर देंगे. अब पूरे गांव में दहशत का माहौल है तथा हमलावर मौके से फरार हैं.

देखें: आजतक LIVE TV

घटना के बाद हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए विभिन्न हिंदू संगठनों और बीजेपी के लोग थाने के बाहर धरने पर बैठ गए जहां पर धार्मिक उन्माद बढ़ने की आशंका के चलते पुलिस से अतिरिक्त जाब्ता बुलाया गया और थाने के सामने से बैठे युवाओं को वहां से हटाया गया. धरने से हटने के बाद सभी युवक तथा मृतक के परिजन मालाखेड़ा के अस्पताल में बने हुए मोर्चरी के बाहर धरने पर बैठ गए. जिला पुलिस अधीक्षक ने त्वरित निर्देशित कर एक टीम को बालेटा ने भेजा और आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने के निर्देश दिए.

एएसपी शिवलाल बैरवा ने बताया कि मालाखेड़ा गांव में बालेटा गांव में एक व्यक्ति की झगड़े में हत्या की गई है. पुलिस ने नामजद आरोपियों को हिरासत में ले लिया है.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें