scorecardresearch
 

पंजाब विधानसभा में जलाई नवजोत सिंह सिद्धू की फोटो, अकाली दल ने मांगा इस्तीफा

इन दिनों सिद्धू पुलवामा के आतंकी हमले के बाद दिए अपने बयान को लेकर विवादों में घिरे हुए हैं. सिद्धू ने पुलवामा आतंकी हमले को कायराना हरकत करार दिया था. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि आतंक की कोई जाति, मजहब या धर्म नहीं होता है. उन्होंने कहा था कि हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों को जवाब मिलना जरूरी है.

नवजोत सिंह सिद्धू (फोटो- PTI) नवजोत सिंह सिद्धू (फोटो- PTI)

पुलवामा आतंकी हमले पर बयान देकर फंसे कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ सोमवार को पंजाब विधानसभा में जमकर नारेबाजी हुई और उनकी फोटो जलाई गई. यह हंगामा पंजाब विधानसभा में बजट सत्र के दौरान हुआ.

हंगामे के समय पंजाब सरकार में वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल बजट पढ़ रहे थे. उन्होंने हंगामे के बीच बजट भाषण पढ़ना जारी रखा. दूसरी ओर, अकाली दल नेताओं ने नारेबाजी करते हुए पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे की मांग की.

अकाली दल के नेताओं ने विधानसभा में सिद्धू के बयान पर छपी अखबारों की रिपोर्ट का हवाला देते हुए सिद्धू के इस्तीफे की मांग की. अकाली दल के नेताओं के हंगामे के चलते विधानसभा की कार्यवाही बाधित की और उनकी फोटो को आग के हवाले कर दिया. इस दौरान विधानसभा स्पीकर लगातार विधायकों से शांति की अपील कर रहे थे.

हालांकि, बार-बार चेतावनी के बावजूद अकाली दल के विधायक नहीं माने और वह अपने हाथों में सिद्धू के पाकिस्तान जाने की पुरानी रिपोर्ट को हवा में लहराते रहे. अकाली दल के नेता पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ ली गई सिद्धू की तस्वीरों को लहराकर उन्हें पाकिस्तान परस्त बता रहे थे. बता दें कि सिद्धू पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान गए थे. तब उनके बाजवा से गले मिलने पर भारतीय मीडिया और दूसरे दलों के नेताओं ने आलोचना की थी.

पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां क्लिक करें

इन दिनों सिद्धू पुलवामा के आतंकी हमले के बाद दिए अपने बयान को लेकर विवादों में घिरे हुए हैं. सिद्धू ने पुलवामा आतंकी हमले को कायराना हरकत करार दिया था. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि आतंक की कोई जाति, मजहब या धर्म नहीं होता है. उन्होंने कहा था कि हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों को जवाब मिलना जरूरी है. उन्होंने कहा था कि आतंकवाद का स्थायी हल खोजा जाना चाहिए.

बता दें कि इस बयान के बाद सिद्धू को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाने लगा. उन्हें सोनी टीवी पर द कपिल शर्मा शो से बाहर करने की मांग भी की जाने लगी. इस विरोध को देखते हुए चैनल ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया. हालांकि, कई लोगों ने इस फैसले के विरोध में सोनी टीवी का बहिष्कार करने का अभियान भी चलाया.

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद डार ने विस्फोटक पदार्थ से लदी अपनी कार से सीआरपीएफ के काफिले की एक बस को धमाके से उड़ा दिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें