scorecardresearch
 

पटियाला: कब क्या हुआ, कैसे तनावपूर्ण हुए हालात, जानिए घटना से जुड़ी हर एक जानकारी

पटियाला में कब क्या हुआ, क्या प्लानिंग थी, कैसे माहौल तनावपूर्ण हुआ. इसकी हर एक जानकारी हम आपको बता रहे हैं. 

X
फाइल फोटो फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुलिस ने किया कई राउंड हवाई फायरिंग
  • हरीश सिंगला पार्टी से निष्कासित

पंजाब के पटियाला में शुक्रवार को शिवसेना (बालासाहब) ने खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च निकाला. इस दौरान खालिस्तान समर्थकों और मार्च में शामिल लोगों के बीच झड़प हो गई. दोनों तरफ से तलवारें लहराई गईं और पत्थरबाजी की घटना भी हुई. इस मामले में पुलिस ने छह मामले दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. हालात तनावपूर्ण होने के बाद कर्फ्यू भी लगाना पड़ा था. इस दौरान कब-कब क्या हुआ, क्या प्लानिंग थी. हम आपको हर एक अपडेट बता रहे हैं.

पुलिस ने किया कई राउंड हवाई फायरिंग
खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च के विरोध में शुक्रवार सुबह हिंदू और सिख संगठनों के टकराव को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. सुबह 11:30 बजे मंदिर के बाहर दोनों गुटों को रोकने के लिए पुलिस को 20 से ज्यादा हवाई फायर करने पड़े. एसएसपी ने चार एसपीडी ने तीन एवं पुलिसकर्मियों ने एके-47 से कई हवाई फायर किए. सुबह 9:30 बजे से शुरू हुआ घटनाक्रम शाम कर्फ्यू शुरू होने के बाद खत्म हुआ. मंदिर के बाहर 11:00 बजे से लेकर 2:00 बजे तक टकराव चलता रहा, इस दौरान दोनों गुटों ने पथराव किए. सुबह के समय सिख संगठनों ने पहले ही तीन टीमें बना ली थी. एक टीम गुरुद्वारा दुखनिवार्ण साहिब में दूसरी बारादरी में तीसरी नेहरू पार्क में तैनात थी. 

सिख संगठनों के टकराव के बाद हिंदू संगठनों की मीटिंग
प्लानिंग यह थी कि किसी भी तरीके से शिवसेना के मार्च में पहुंचकर जवाब देना है. 5 लोगों की टीम गुरसेवक सिंह के नेतृत्व में आर्य समाज पहुंची. वहां टकराव के दौरान डीसी साक्षी साहनी और आईजी राजेश अग्रवाल मंदिर पहुंचे, उन्होंने स्थिति का जायजा लिया. इधर फुव्वारा चौक को सिख युवकों ने घेर लिया. बाबा बक्शीश सिंह ने कहा कि जब तक उनके सदस्य पर गोली चलाने वालों पर पुलिस केस दर्ज नहीं करती तब तक वह मोर्चा नहीं हटाएंगे. हिंदू और सिख संगठनों के टकराव के बाद शुक्रवार शाम शहर के सभी हिंदू संगठनों में अगली रणनीति तैयार करने के लिए मीटिंग बुलाई गई. मीटिंग में पहुंचे हरीश सिंगला और काली माता मंदिर कमेटी के मेंबर विपन शर्मा भीड़ पड़े.

शिव सेना, हिंदुस्तान हिंदू सुरक्षा समिति सहित कई संगठन जुटे
देर शाम हिंदू और सिख संगठनों के टकराव के बाद शुक्रवार शाम शहर के सभी हिंदू संगठनों ने अगली रणनीति तैयार करने के लिए मीटिंग बुलाई. हिंदू तख्त के बैनर तले शिव सेना, हिंदुस्तान हिंदू सुरक्षा समिति सहित कई संगठन जुटे. घटना की निंदा करते हुए शनिवार को पटियाला बंद रखने का फैसला हुआ. हिंदू नेताओं ने श्री काली माता मंदिर पर हुए हमले की निंदा की जिम्मेदारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की. हिंदू संगठनों ने चेतावनी दी कि अगर खालिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करने वाले और मंदिर पर पथराव करने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो सभी संघर्ष करेंगे. इसी बीच पटियाला पुलिस ने शुक्रवार शाम को लगभग 6:00 बजे हरीश सिंगला को उनके घर से गिरफ्तार कर उन पर मामला दर्ज कर लिया.

हरीश सिंगला पार्टी से निष्कासित
उधर शाम को शिवसेना बाल ठाकरे ने पंजाब कार्यकारी प्रधान हरीश सिंगला को पार्टी से निष्कासित कर दिया. पार्टी पंजाब प्रधान योगराज शर्मा की तरफ से बताया गया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के निर्देश पर सिंगला को पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण निकाल दिया गया है. 

शहर बंद करने का एलान कामयाब
हिंदू संगठनों के आज शनिवार पूरा शहर बंद करने का एलान पूरा कामयाब दिखा, पूरा शहर बंद रहा. उधर हिंदू संगठनों द्वारा माता मंदिर के बाहर धरना देने के ऐलान पर प्रशासन ने उनसे धरना ना करने का आग्रह किया. जिस पर हिंदू संगठनों ने शर्त रखी कि 48 घंटे में अगर मंदिर पर हमला करने वाले और खालिस्तानी नारे लगाने वाले लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार न किया गया तो उनको आगे की कार्रवाई करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. 

हरीश सिंगला की कोर्ट में पेशी
फिलहाल हिंदू संगठन प्रशासन के दिए समय तक इंतजार करेंगे. पुलिस ने हरीश सिंगला को आज मेडिकल जांच करवाने के बाद कोर्ट में पेश किया. भारी पुलिस बंदोबस्त में हरीश सिंगला को पुलिस लगभग 2:00 बजे कोर्ट लेकर आई. इसी बीच शाम 6:00 बजे डिप्टी कमिश्नर साक्षी साहनी के साथ पटियाला के नए आईजी एवं एसएसपी मीडिया से बात करेंगे.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें