scorecardresearch
 

जाट आंदोलन और ब्लू स्टार बरसी को लेकर हरियाणा-पंजाब में तनाव, भारी सुरक्षा तैनात

हरियाणा में जातीय जाट आरक्षण तो पंजाब में धार्मिक ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी के चलते तनाव व्याप्त है. तनाव इस कदर है की दोनों राज्यों में फिलहाल कई दर्जन कंपनियां अर्धसैनिक बलों की तो इसके अलावा हजारों की तादात में राज्य पुलिस के जवान तैनात हैं.

ब्लू स्टार की 32वीं बरसी पर पंजाब में तनाव ब्लू स्टार की 32वीं बरसी पर पंजाब में तनाव

पंजाब और हरियाणा दोनों ही राज्य एक-दूसरे को बड़ा और छोटा भाई कहते हैं. लेकिन लग ऐसा रहा है की दोनों राज्यों पर जून का महीना भारी पड़ने वाला है. हरियाणा में जातीय जाट आरक्षण तो पंजाब में धार्मिक ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी के चलते तनाव व्याप्त है. तनाव इस कदर है की दोनों राज्यों में फिलहाल कई दर्जन कंपनियां अर्धसैनिक बलों की तो इसके अलावा हजारों की तादात में राज्य पुलिस के जवान तैनात हैं. लेकिन बावजूद इसके राज्य सरकारों की नींद उडी हुई है पिछले कई दिनों से ताबड़तोड़ फ्लैग मार्च किये जा रहे हैं.

ब्लू स्टार की 32वीं बरसी
सचखण्ड श्री हरमंदिर साहिब में 6 जून 1984 को हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार की 32 वीं बरसी मनाई जा रही है. हर साल की तरह इस साल भी शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी, लेकिन इस बार पहली बार ऐसा होगा की 2 जत्थेदार सिखों को संदेश देंगे, एक तरफ जहां सिख जत्थेबंधियों ने इस दिन को लेकर खास कार्यक्रमों का एलान किया है.

6 जून को बंद का ऐलान
वहीं पुलिस प्रशासन भी इस दिन को लेकर पूरी तरह चौकस है और अमृतसर में पंजाब पुलिस के साथ पैरा मिल्ट्रीफोर्स लगाई गई है जो अमृतसर के अलग-अलग हिस्सों में फ्लैग मार्च कर रही है. इसके अलावा इस वक्त पंजाब में 16 कंपनियां अर्धसैनिक बलों की तैनात हैं. वहीं दल खालसा ने 6 जून को बंद का ऐलान किया है.

32 साल बाद भी नहीं मिला इंसाफ
सिख संगठनों का कहना है की इस दिन को कोमी दिवस (नेशनल डे) के रूप मनाया जाए. दूसरी तरफ दल खालसा कन्वीनर कवलपल सिंह बिट्टू का कहना है की हरमंदिर साहिब पर हुए हमले को 32 साल हो चुके है और शुक्रवार को इसी वर्षगांठ को लेकर शहीदी मार्च निकाला जाएगा और अकाल तख्त पर जाकर अरदास की जाएगी. भारत सरकार द्वारा दिए गए जख्म अभी तक भरे नहीं है और न ही उन्हें आज तक इंसाफ मिल पाया है. इस लिए 6 जून को बंद का ऐलान किया गया है. उन्होंने सभी दुकानदारों से अपील की वह इस बंद में शामिल हों.

इसके साथ ही अपील की गई है कि सचखण्ड श्री हरमंदिर साहिब में अमन शांति बनाए रखें और हरमंदिर साहिब की मर्यादा को बरकरार रखते हुए नारेबाजी और हलड़बाजी न की जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें