scorecardresearch
 

कृषि कानून रद्द होने के बाद बोले कैप्टन- बीजेपी के साथ जाने में गुरेज नहीं

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि हमने पहले ही कहा था कि मुझे बीजेपी के साथ जाने में गुरेज नहीं है लेकिन मेरी शर्त थी कि ये तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए.

कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो) कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंजाब को गुरु पर्व पर मिला बड़ा तोहफा- कैप्टन
  • कहा- पंजाब के किसानों को घर लौट जाना चाहिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से तीनों कृषि कानून वापस लेने के संबंध में ऐलान के बाद पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़ा ऐलान किया है. कांग्रेस छोड़कर अपनी पार्टी बनाने का ऐलान कर चुके कैप्टन ने अब कहा है कि उन्हें कृषि कानून वापस लिए जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ जाने में गुरेज नहीं है.

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि पंजाब को आज गुरु पर्व के मौके पर एक बड़ा तोहफा मिला है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने माफी मांगते हुए तीनों कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया है. पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने साथ ही ये भी कहा है कि अब पंजाब के किसानों को आंदोलन खत्म करके अपने घरों को लौट जाना चाहिए.

कैप्टन अमरिंदर सिंह से जब बीजेपी के साथ उनकी नवगठित सियासी पार्टी के जाने को लेकर सवाल पूछा गया तब जवाब में उन्होंने साफ कहा कि पहले ही कहा था कि मुझे इससे गुरेज नहीं. कैप्टन ने कहा कि हमने पहले ही कहा था कि मुझे बीजेपी के साथ जाने में गुरेज नहीं है लेकिन मेरी शर्त थी कि ये तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए.

उन्होंने कहा कि हमने पहले भी कितनी बार कहा था कि ये कानून गलत हैं और इन्हें वापस लिया जाना चाहिए. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटाए जाने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं. कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीजेपी में शामिल होने की राह में सबसे बड़ी बाधा ये कृषि कानून ही थे.

कैप्टन अमरिंदर ने दिल्ली पहुंचकर गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान कृषि कानूनों को लेकर भी चर्चा हुई थी. अब जबकि पीएम मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया है, कैप्टन और बीजेपी के साथ आने का रास्ता साफ हो गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें