scorecardresearch
 

बच्चों ने भारत और इंडोनेशिया सरकार से लगाई गुहार- हमारे पिता को मौत की सजा न दी जाए

गुरदीप सिंह पर 14 अन्य लोगों के साथ 2004 में इंडोनेशिया की अदालत में हेरोइन की तस्करी का केस चला था. इंडोनेशिया की अदालत ने इन 14 लोगों को मौत की सजा सुनाते हुए गोली मारने के आदेश दिए हैं.

X
गोली मारने की मिली है सजा
गोली मारने की मिली है सजा

इंडोनेशिया में नशे की तस्करी के चलते एक भारतीय गुरदीप सिंह सहित 14 लोगों को सरकार ने मौत की सजा सुनाई है. गुरदीप का परिवार पंजाब के जालंधर में रहता है. अब गुरदीप के परिवार वाले दोनों देशों की सरकारों से सजा माफ करने की मांग कर रहे हैं.

साल 2002 में पंजाब से इंडोनेशिया गए हरदीप सिंह को वहां की अदालत ने 300 ग्राम हेरोइन की तस्करी में गोली मारने के आदेश दिए हैं. जब से जालंधर के नकोदर में उनके परिवार को यह सूचना मिली है, उनका रो-रो कर बुरा हाल है. गुरदीप का परिवार सरकार से यही गुहार लगा रहा है कि गुरदीप पहले से ही 12 साल से जेल में है और अब उसे माफ कर दिया जाए.

गौरतलब है कि गुरदीप सिंह पर 14 अन्य लोगों के साथ 2004 में इंडोनेशिया की अदालत में हेरोइन की तस्करी का केस चला था. इंडोनेशिया की अदालत ने इन 14 लोगों को मौत की सजा सुनाते हुए गोली मारने के आदेश दिए हैं.

गुरदीप के घर में उसकी पत्नी कुलविंदर कौर, बेटी मनजोत जो की 17 साल की है और बेटा सुखबीर सिंह हैं. गुरदीप की पत्नी कुलविंदर के अनुसार वो पिछले 14 साल से इसी इंतजार में हैं कि सरकार उनके पति को माफ कर दें और उसे वापस भेज दे. गुरदीप की पत्नी के मुताबिक उसके बेटे ने तो अभी अपने पिता को देखा तक नहीं है. गुरदीप की पत्नी के साथ गुरदीप के बेटे और बेटी का भी रो-रो कर बुरा हाल है. उनके अनुसार उनको पिता का फोन आया था कि अब वो कभी उसे जिंदा नहीं देख पाएंगे. बच्चे भी दोनों देश की सरकारों से पिता की माफी की गुहार लगा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें