scorecardresearch
 

अमृतसर ट्रेन हादसा: इसलिए नहीं रुकी ट्रेन, रेलवे ने दिया हर सवाल का जवाब

अमृतसर का रेल हादसा कई परिवारों को गम दे गया. ट्रेन की चपेट में आने से रावण दहन देख रहे 60 लोगों की सांसें थम गईं. इस हादसे का जिम्मेदार कौन है, इस पर बहस चल रही है. जानें- रेलवे का इस पर क्या कहना है...

X
फिरोजपुर डीआरएम और वो ट्रेन जिससे हादसा हुआ फिरोजपुर डीआरएम और वो ट्रेन जिससे हादसा हुआ

पंजाब के अमृतसर में शुक्रवार शाम हुए भयानक रेल हादसे के बाद रेलवे और स्थानीय प्रशासन पर कई सवाल उठ रहे हैं. इनमें सबसे बड़ा सवाल यह है कि ट्रेन क्यों नहीं रोकी गई? ट्रेन धीरे क्यों नहीं की गई? रेलवे को जानकारी थी या नहीं? इस तरह के कई सवालों के जवाब दिए फिरोजपुर के डीआरएम विवेक कुमार ने....

सवाल-1: क्या ट्रेन की स्पीड को कम नहीं किया जा सकता था?

अधिकारी: अंधेरा था और घटनास्थल पर थोड़ा घुमाव है. ट्रेन की लाइट सीधी जाती है और लोग ट्रैक पर थे. हमें ट्रेन में लगे स्पीड रिकॉर्डिंग मशीन से पता चला है कि जब ड्राइवर को लोग दिखाई दिए तो उसने स्पीड कम की थी और उस वक्त ट्रेन की स्पीड करीब 92 किलोमीटर प्रति घंटा थी और ट्रेन की स्पीड 68 तक कर ली गई थी. ऐसी स्थिति में ट्रेन को पूरी तरह रुकने के लिए 700 मीटर की आवश्यकता होती है.

सवाल-2: क्या ट्रेन को हादसे के बाद रोका गया?

अधिकारी: ट्रेन की स्पीड कम करने के बाद स्पीड 7-10 किलोमीटर प्रति घंटे हो गई थी. लेकिन गार्ड ने कहा कि लोग पथराव कर रहे हैं. सवारियों की सुरक्षा को देखते हुए ट्रेन नहीं रोकी गई और ट्रेन को अमृतसर में रोका गया. ट्रेन को घटनास्थल पर रोकना ठीक नहीं था.

सवाल-3: क्या आयोजन को लेकर रेलवे को कोई जानकारी नहीं थी?

अधिकारी: हमें कोई जानकारी नहीं थी और ना ही किसी ने हमें बताया था कि ट्रैक पर लोग रहेंगे. हमारे पास यह भी जानकारी नहीं थी कि ट्रेन को धीमा करना है. साथ ही यह आयोजन रेलवे लाइन के बाहर हो रहा था, इसलिए इस स्थिति में रेलवे से अनुमति लेने की कोई आवश्यकता नहीं है.

सवाल-4: हादसे में जो लोग मारे गए हैं, उसके लिए रेलवे जिम्मेदार है?

अधिकारी: रेलवे जिम्मेदार नहीं है. साथ ही इसके लिए कौन जिम्मेदार है, इस बारे में, मैं कुछ नहीं कह सकता. हादसा मिड सेक्शन में हुआ है और रेलवे का स्टाफ हर जगह नहीं रह सकता है. हमारा स्टाफ गेट या स्टेशन पर रहता है और अगर गेट पर कुछ होता है तो गेटमैन उसके बारे में बताता है. यह हादसा गेट से दूर हुआ और यह गेटमैन के क्षेत्र में नहीं आता है.

अमृतसर: 20 दिन पहले कर्मचारियों के लिए रुक गई थी ट्रेन, आम लोगों को रौंद दिया

सवाल-5: क्या इस हादसे में कोई सीआरएस जांच होगी?

अधिकारी: नहीं, मामले में कोई सीआरएस जांच नहीं होगी.

सवाल-6: पथराव से ट्रेन या ड्राइवर को कोई नुकसान पहुंचा है?

अधिकारी: नुकसान के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है.

सवाल-7: ड्राइवर कहां है?

अधिकारी: ड्राइवर को सुरक्षित स्थान पर रखा गया है.

कैसे हुआ अमृतसर ट्रेन हादसा? देखें, दिल दहला देने वाले 8 वीडियो

सवाल-8: ऐसे हादसे भविष्य में ना हों, इसके लिए क्या करना होगा?

अधिकारी: ऐसा आगे नहीं हो,  इसके लिए लोगों को ट्रैक पास नहीं करना चाहिए. स्टेशन पर भी लोग फुटओवर ब्रिज के स्थान पर नीचे से ट्रैक क्रॉस करते हैं, उन्हें एेसा नहीं करना चाहिए.

सवाल-9: क्या ट्रेन में हॉर्न नहीं था या बजाया नहीं गया था?

अधिकारी: ट्रेन में हॉर्न था और हॉर्न ठीक भी था. साथ ही हॉर्न बजाया गया था. वैसे मिड सेक्शन में हॉर्न बजाना जरूर नहीं होता है. पहले गेट पर और बाद में लोगों के पास हॉर्न बजाया था.

सवाल-10: हादसे की जानकारी के बाद क्या कदम उठाए गए?

अधिकारी: हादसे की जानकारी मिलने के बाद हमने एआरएमई चलाई और सहायता के लिए कदम उठाए गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें