scorecardresearch
 
पंजाब

दुबई: पाकिस्तानी की हत्या के जुर्म में भारतीय को सजा-ए-मौत, परिवार ने लगाई सरकार से गुहार

दुबई में मौत की सजा पाए बेटे को बचाने की गुहार
  • 1/5

दुबई की अदालत से हत्या के मामले में मौत की सजा पाने वाले भारत के युवक के परिवार ने अभी भी उम्मीदें नहीं छोड़ी है. इस युवक के परिवार ने सरकार से मदद की गुहार लगाई है. दुबई में मौत की सजा फायरिंग स्क्वायड द्वारा गोली मारकर दी जाती है. परिवार वालों की मांग है कि सरकार उनके बेटे को घर वापस लाए. मौत की सजा पाने वाला युवक पंजाब के माहिलपुर के वार्ड आठ का रहने वाला चरणजीत सिंह है. 

(फोटो- सुनील लाखा)

दुबई में मौत की सजा काट रहे बेटे को बचाने की गुहार
  • 2/5

परिजनों का कहना है कि चरणजीत सिंह 2020 में दुबई गया था. जहां पर एक पाकिस्तानी लड़के के कथित कत्ल के मामले में उसे दुबई की अदालत ने गोली मारकर मारने की सजा सुनाई है. पिता तिलक राज और मां बबली ने बताया कि चरणजीत सिंह जिसकी आयु 23 वर्ष और शिक्षा दसवीं पास है, वह घर की गरीबी दूर करने के लिए फरवरी 2020 में बतौर हेल्पर काम करने के लिए दुबई गया था.

दुबई में मौत की सजा काट रहे बेटे को बचाने की गुहार
  • 3/5

वहां जाने के कुछ महीने के बाद जब वहां पर रोजे चल रहे थे तो चरणजीत सिंह सहित आठ युवक शराब के एक मामले में पुलिस की रेड में पकड़े गए, इस छापेमारी के दौरान चार युवक फरार हो गए थे. शराब के केस में तीन साथियों को 1-1 साल की सजा हुई जबकि चरणजीत सिंह को पाकिस्तानी युवक के कत्ल मामले में नामजद कर लिया था. 

दुबई में मौत की सजा काट रहे बेटे को बचाने की गुहार
  • 4/5

तीनों युवक एक एक साल की सजा काट चुके हैं जबकि चरणजीत सिंह दुबई में अलवाटला सेंटर जेल आबुधाबी में बंद है. पिता तिलक राज ने कहा कि चरणजीत सिंह को विदेश भेजने के लिए ब्याज पर कर्ज उठाया था और उसके पकड़े जाने के बाद कर्ज उतारने के लिए घर बेच दिया और ससुराल में रहकर जीवनयापन कर रहे हैं. 

दुबई में मौत की सजा काट रहे बेटे को बचाने की गुहार
  • 5/5

चरनजीत सिंह को मिली मौत की सजा से उसका परिवार परेशान है और बेहद तनाव में है. वो सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि उन्हें उनका बेटा लौटा दिया जाए. वो लोग बेहद गरीब हैं उनका एक मात्र सहारा बेटा है जेल में बंद अपनी मौत का इंतजार कर रहा है. चरनजीत की मामी जसविंदर कौर ने कुछ दिन पहले उससे फोन पर बात की थी. चरनजीत ने बोला कि उसे नहीं पता कि उसका क्या होगा आप लोग मेरे बाद माता पिता का ध्यान रखना.