scorecardresearch
 

बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो ने पार्टी छोड़ी, सांसद पद से भी इस्तीफा देकर राजनीति से संन्यास का ऐलान

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बंगाल में बीजेपी के बड़े नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को अलविदा कह दिया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिख कहा है कि वे राजनीति में सिर्फ समाज सेवा के लिए आए थे. अब उन्होंने अपनी राह बदलने का फैसला लिया है.

बाबुल सुप्रियो ( पीटीआई) बाबुल सुप्रियो ( पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को कहा अलविदा
  • बोले- समाज सेवा के लिए आया था
  • तमाम विवादों पर बाबुल ने रखी अपनी राय

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बंगाल में बीजेपी के बड़े नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को अलविदा कह दिया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिख कहा है कि वे राजनीति में सिर्फ समाज सेवा के लिए आए थे. अब उन्होंने अपनी राह बदलने का फैसला लिया है.

बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को कहा अलविदा

उन्होंने कहा है कि लोगों की सेवा करने के लिए राजनीति में रहने की जरूरत नहीं है. वे राजनीति से अलग होकर भी अपने उस उदेश्य को पूरा कर सकते हैं. उनकी तरफ से पोस्ट में पहले इस बात पर भी जोर दिया गया कि वे हमेशा से बीजेपी का ही हिस्सा रहे हैं और रहेंगे. उन्होंने यहां तक कहा था कि वे टीएमसी या कोई दूसरी पार्टी में शामिल नहीं होंगे. लेकिन अब उनकी तरफ से अपनी पोस्ट को अपडेट किया गया है और उन्होंने इस लाइन को हटा दिया है. ऐसे में अटकलें तेज हैं, लेकिन साफ कुछ नहीं कहा जा रहा. 

पिछले कुछ दिनों से बाबुल सुप्रियो की चुप्पी और बीजेपी में उनकी कम होती भूमिका पर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे थे. अटकलें थी कि बाबुल कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं. अब अपनी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए उन तमाम विवादों पर भी बाबुल ने विस्तार से बात की है. उन्होंने कहा है कि पार्टी संग मेरे कुछ मतभेद थे. वो बातें चुनाव से पहले ही सभी के सामने आ चुकी थीं. हार के लिए मैं भी जिम्मेदारी लेता हूं,लेकिन दूसरे नेता भी जिम्मेदार हैं.

लंबे समय से पार्टी छोड़ना चाहते थे

बाबुल सुप्रियो ने इस बात का भी जिक्र किया है कि वे लंबे समय से पार्टी छोड़ना चाहते थे. वे पहले ही मन बना चुके थे कि अब राजनीति में नहीं रहना है. लेकिन बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के रोकने की वजह से उन्होंने अपने उस फैसले को हर बार वापस लिया. लेकिन अब क्योंकि उनके कुछ नेताओं संग मतभेद होने शुरू हो गए थे और तमाम विवाद भी जनता के सामने आ रहे थे, ऐसे में उन्होंने राजनीति छोड़ने का फैसला ले लिया.

मंत्रिमंडल विस्तार पर कहा ये

वैसे हाल ही में मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में भी बाबुल सुप्रियो को जगह नहीं दी गई थी. उन्हें उनके पद से इस्तीफा देना पड़ा था. सोशल मीडिया पोस्ट पर उन्होंने इस बारे में भी लिखा है, लेकिन कुछ भी स्पष्ट रूप से लिखने से बचे हैं.

बंगाल में बीजेपी की बढ़ती ताकत पर ये राय

बंगाल में बीजेपी की बढ़ती ताकत पर बाबुल ने कहा है कि अब पार्टी के पास कई नेता मौजूद हैं. नौजवान भी हैं और दिग्गज भी साथ खड़े हैं, ऐसे में अगर कोई अब पार्टी छोड़ भी देता है तो ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला है. उनके मुताबिक जब उन्होंने बंगाल में भारतीय जनता पार्टी से जुड़ने का निर्णय लिया तब यहां पर बीजेपी की स्थिति बिल्कुल सही नहीं थी. वे अकेले एक बड़ा चेहरा थे. लेकिन अब 2019 के बाद से बीजेपी इस राज्य में प्रधान विरोधी पार्टी बन उभरी है.

बाबुल ने अपनी पोस्ट के अंत में भावुक अंदाज में कहा है कि 1992 में स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक की नौकरी छोड़कर मुंबई भागते वक्त जो किया था, अब फिर मैंने वहीं किया है.

 फैसले पर राजनीतिक प्रतिक्रिया

अब बाबुल ने जरूर सोशल मीडिया पर राजनीति से संन्यास लेने का ऐलान किया है, लेकिन टीएमसी ने इसे ड्रामा करार दिया है. टीएमसी प्रवक्ता कुणाल घोष कहते हैं कि बाबुल को अगर राजनीति से संन्यास लेना है, तो सबसे पहले एमपी पद से इस्तीफा देना चाहिए. ये बात किसी से नहीं छिपी है कि मंत्री पद से इस्तीफे के बाद बीजेपी ने बाबुल को भाव नहीं दिया था.

वहीं बंगाल में बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस सवाल से बचने की कोशिश की है. उन्होंने कहा है कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है. बाबुल ने एमपी पद से इस्तीफा नहीं दिया है. वहीं किसे राजनीति में रहना है और किसे जाना है, ये एक निजी फैसला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें