scorecardresearch
 

शिवसेना का BJP पर तंज, सत्ता का फल चखने वाले विपक्ष के दिन न भूले

हमेशा अपनी राजनीतिक टिप्पणियों के लिए चर्चित रहने वाले शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में अपने गठबंधन के साथी बीजेपी से किसानों की कर्ज माफी की अपील की गई है.

X
शिवसेना का मुखपत्र सामना शिवसेना का मुखपत्र सामना

हमेशा अपनी राजनीतिक टिप्पणियों के लिए चर्चित रहने वाले शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में अपने गठबंधन के साथी बीजेपी से किसानों की कर्ज माफी की अपील की गई है. 'सामना' ने लिखा है सत्ता का स्वाद चख रही सरकार अपने चुनावी वादों को न भूले और किसानों का कर्ज माफ करे.'

'सामना' के संपादकीय में बीजेपी की नीयत पर भी सवाल उठाए गए हैं. अखबार ने अपने संपादकीय में लिखा है, सत्ता परिवर्तन का फल वर्तमान सरकार चख रही है लेकिन किसानों की जेब और गले दोनों सुखे हैं. अखबार ने लिखा है कि बीजेपी जब विपक्ष में थी तो खुद किसानों के कर्ज माफी की मांग जोर-शोर से उठाती रही है लेकिन अब सरकार में आते ही वित्त मंत्री को राज्य का खजाना खाली नजर आने लगा है. सरकार ने किसानों के लिए सात हजार करोड़ के पैकेज की घोषणा की तो है लेकिन किसानों तक वास्तव में कितना पैसा पहुंचता है यह कोई नहीं बता सकता.

अखबार ने NCP चीफ शरद पवार पर तंज कसते हुए कहा है कि वह अब मराठवाड़ा के किसानों के कर्ज माफी की वकालत कर रहे हैं लेकिन क्या यह सवाल उन्होंने खुद से पूछा है कि किसानों की यह हालत की किसने. विपक्ष के बाद अखबार ने गठबंधन के अपने साथी पर भी सवाल उठाए. वित्त मंत्री और मुख्यमंत्री दोनों को घेरते हुए संपादकीय में कहा गया, 'वित्त मंत्री और मुख्यमंत्री दोनों विदर्भ के हैं लेकिन वहां किसानों की हालत और खराब होती जा रही है. ऊपर से वित्त मंत्री ने किसानों की कर्ज माफी की मांग को ठुकरा दिया है. सरकार को चाहिए किसानों के कर्ज माफी के उपाय करे न कि इस मुद्दे पर राजनीति करे.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें