scorecardresearch
 

वैलेंटाइन डे पर स्कूल में लड़कियों को दिलाई शपथ, नहीं करेंगे प्यार, BJP ने उठाए सवाल

अमरावती के स्कूल में लड़कियों के प्यार न करने और प्रेम विवाह न करने को लेकर शपथ ग्रहण करने पर बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा कि लड़कियां ही क्यों लड़के क्यों नहीं?

पंकजा मुंडे (फाइल फोटो) पंकजा मुंडे (फाइल फोटो)

  • अमरावती के स्कूल में लड़कियों ने ली शपथ
  • लड़कियां बोलीं- नहीं करेंगे प्यार, प्रेम विवाह

महाराष्ट्र की बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने अमरावती के एक स्कूल में छात्राओं को प्यार और लव मैरिज के खिलाफ शपथ ग्रहण करवाने पर नाराजगी जाहिर करते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने सवाल उठाया है कि खाली लड़कियां ही क्यों शपथ लेंगी?

पंकजा मुंडे ने ट्वीट किया, 'हास्यास्पद!! अजीब!! अमरावती के एक स्कूल की लड़कियों ने प्यार में न पड़ने की शपथ ली और प्रेम विवाह न करने का संकल्प लिया. केवल लड़कियां ही क्यों शपथ लेती हैं?'

उन्होंने ट्वीट में लिखा, 'लड़कियों के बजाय उन लड़कों को शपथ दिलाएं कि वो एक तरफा प्यार में लड़की पर तेजाब नहीं फेंकेंगे और उसे जिंदा नहीं जलाएंगे. उन्हें शपथ लेना चाहिए कि वो कभी भी लड़कियों को गंदी नजर से नहीं देखेंगे. वो कभी भी किसी के साथ ऐसा नहीं होने देंगे.'

दरअसल, प्यार करने वाले लोग अपने प्यार का इजहार करने के लिए वेलेंटाइन डे के दिन को चुनते हैं. लेकिन महाराष्ट्र के अमरावती में एक स्कूल के छात्राओं को वेलेंटाइन डे के मौके पर एक अलग तरीके की शपथ दिलाई गई. शपथ ग्रहण करते समय छात्राओं ने प्यार में न पड़ने और प्रेम विवाह नहीं करने का फैसला किया.

यह भी पढ़ें: कभी विंक से चर्चा में आईं प्रिया प्रकाश वॉरियर, इस वैलेंटाइन कहां हैं गायब?

शपथ दिलाने के पीछे का कारण बताते हुआ कहा गया कि इन दिनों लड़के-लड़कियों के बीच प्यार बढ़ता दिख रहा है. दहेज की प्रथा भी बढ़ गई है. यही कारण है कि अमरावती जिले के महिला और कला महाविद्यालय में छात्राओं को अनूठा संकल्प दिलाया गया.

शपथ ग्रहण करते वक्त छात्राओं ने कहा, 'मैं कसम खाती हूं, मुझे अपने माता-पिता पर पूरा भरोसा है. इसलिए मेरे सामने होने वाली घटनाओं को देखते हुए, मैं प्यार और प्यार से शादी नहीं करूंगी. साथ ही दहेज लेने वालों के साथ भी शादी नहीं करूंगी. एक भावी मां के रूप में, मैं अपनी भावी बहू से दहेज नहीं लूंगी. साथ ही लड़की को दहेज भी नहीं दूंगी.'

छात्रों का मानना ​​है कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा पर अंकुश लगाने के लिए उनका यह फैसला उपयोगी साबित होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि अमरावती की इन लड़कियों से बाकी लड़कियों को सीखने की जरूरत है. छात्राओं ने हिंगणघाट की घटना की शिकार महिला को श्रद्धांजलि भी अर्पित की.

यह भी पढ़ें: जानें 14 फरवरी को क्यों होता है वैलेंटाइन डे

बता दें कि 3 फरवरी को महाराष्ट्र के वर्धा जिले में एकतरफा प्यार में एक सिरफिरे ने महिला के मना करने पर उसे पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया था. इस घटना में 25 वर्षीय अंकिता गंभीर रूप से झुलस गई थी. 10 फरवरी को ऑरेंज सिटी हॉस्पिटल में पीड़िता की मौत हो गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें