scorecardresearch
 

'बागी' रहे अजित पवार को फिर से क्यों बनाया डिप्टी सीएम, संजय राउत ने बताई वजह

अजित पवार की ताजपोशी पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि ये फैसला पवार साहब का है. शरद पवार महाराष्ट्र और देश के सबसे अनुभवी नेता हैं, आप उन पर संदेह नहीं कर सकते. उनके फैसले हमेशा सही होते हैं.

महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार के साथ सीएम उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो- PTI) महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार के साथ सीएम उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो- PTI)

  • डेढ़ महीने में दो बार डिप्टी सीएम बने अजित
  • मंत्री न बन पाने से कुछ विधायक नाराज
  • महाराष्ट्र में मंत्री बने आदित्य ठाकरे

महाराष्ट्र में कुछ दिन पहले पार्टी नेतृत्व से बगावत करने वाले अजित पवार एक बार फिर से राज्य के डिप्टी सीएम बन गए हैं. पहले वो देवेंद्र फडणवीस के साथ डिप्टी सीएम बने इस बार उद्धव ठाकरे के साथ ही वे डिप्टी सीएम ही बने. अजित पवार की ताजपोशी पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि ये फैसला पवार साहब का है. शरद पवार महाराष्ट्र और देश के सबसे अनुभवी नेता हैं, आप उन पर संदेह नहीं कर सकते. उनके फैसले हमेशा सही होते हैं.

उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल के आज पहले विस्तार के बाद शिवसेना के कई नेता नाखुश बताए जा रहे हैं. ये नेता मंत्री बनने की उम्मीद लगाए बैठे थे. शिवसेना के वरिष्ठ नेता और सांसद संजय राउत ने इस घटनाक्रम पर कहा है कि “कुछ लोग खुश होंगे और कुछ नाखुश. हमारे लिए अहम ये है कि मुख्यमंत्री हमारे हैं.”  

भाई नहीं बन पाए मंत्री

संजय राउत के भाई और शिवसेना विधायक सुनील राउत भी मंत्री ना बनाए जाने से नाखुश बताए जा रहे हैं. सुनील राउत के बारे में पूछे जाने पर संजय राउत ने कहा, “जहां तक मेरे परिवार का सवाल है, हम मंत्री बनाए जाने पर नज़र नहीं रखते. मेरे परिवार की परम्परा मंत्री बनने की नहीं है. हम मंत्री बनने के लिए नहीं संगठन के लिए काम करते हैं. मेरे भाई सुनील राउत भी पार्टी कार्यकर्ता हैं. वो लंबे समय से विधायक हैं. उन्होंने कभी मंत्री नहीं बनना चाहा. हमारा परिवार सरकार बनाने की प्रक्रिया से जुड़ा रहा है. हम आसानी से मंत्री बन सकते थे लेकिन हम बनना नहीं चाहते. पार्टी में हमारे जैसे और भी लोग हैं. वो पद प्राप्त करने में नहीं संगठन के लिए काम करने में यकीन रखते हैं.”   

शिवसेना के एक और विधायक तनाजी सावंत भी मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज़ बताए जाते हैं. तनाजी सावंत को लेकर संजय राउत ने कहा, “मैं तनाजी सावंत से बात कर रहा हूं और वो मेरे संपर्क में हैं. वो पहले मंत्री रह चुके हैं.”  

पवार के फैसले पर संदेह नहीं

मंत्रिमंडल विस्तार में एनसीपी नेता अजित पवार को डिप्टी सीएम बनाया गया है. उनके बारे में पूछे जाने पर संजय राउत ने कहा, “अजित पवार को क्या पद मिलना है, ये फैसला शरद पवार ने किया. एनसीपी पार्टी में शरद पवार ही तय करते हैं कि किसे क्या पद मिलेगा. शरद पवार महाराष्ट्र और देश के सबसे अनुभवी नेता हैं, आप उन पर संदेह नहीं कर सकते. उनके फैसले हमेशा सही होते हैं. अजित पवार दो दिन के लिए बीजेपी के साथ भी रहे. अब वो (बीजेपी नेता) अजीत पवार पर सवाल क्यों उठा रहे हैं?”

मजबूत रिंग मास्टर हैं उद्धव

मंत्रिमंडल विस्तार पर संजय राउत ने कहा, “कुछ लोग नाखुश होंगे. हर पार्टी का एक कोटा है और उसी के हिसाब से हम सब को सामंजस्य बिठाना है. हमें निर्दलीयों को भी एडजस्ट करना है. मंत्रिमंडल में पुराने चेहरों के साथ नए चेहरे भी शमिल हैं. ये कैबिनेट काफी अनुभवी होने के साथ ही बहुत ऊर्जावान है. आदित्य ठाकरे मंत्री हैं. उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री हैं. ये सेना के लिए बड़ा दिन है और महाराष्ट्र की राजनीति के इतिहास में ऐसी चीजें पहले कभी नहीं हुई है. तीन पार्टियों को साथ लेकर चलना सर्कस के जैसा है लेकिन हमारे रिंग मास्टर यानि उद्धव ठाकरे बहुत मजबूत हैं. हमारे पास शरद पवार का समर्थन और दिशा निर्देशन है. ये सरकार पांच साल चलेगी, विपक्ष और रामदास अठावले क्या कहते हैं, उस पर सोचने के लिए हमारे पास वक्त नहीं है.”

सामना के संपादकीय को लेकर संजय राउत ने कहा, “हां, बीजेपी को सर्जिकल स्ट्राइक के बाद समर्थन मिला. अब चीजें उनके लिए वैसी नहीं हैं लेकिन हां सर्जिकल स्ट्राइक के बाद उन्हें समर्थन मिला. हालिया घटनाओं को देखें तो स्थिति बदली नहीं हैं. अब भी आतंकी हमले हो रहे हैं और हमारे जवान शहीद हो रहे हैं.” 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें