scorecardresearch
 

मुंबईः पतंग के चक्कर में गोबर के ढेर में फंसा 10 साल का बच्चा, मौत

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, मकर संक्रांति का दिन था, पूरा दिन दुर्वेश पतंगों के साथ खेल रहा था. उसकी सोसाइटी के पास एक 'तबेला' है और जाधव ने देखा कि वहां गोबर के ढेर के पास पतंग पड़ी हुई है. दुर्वेश पतंग लेने के लिए जैसे ही वहां पर कूदा गोबर में गिर गया.

क्रेन की मदद से बच्चे को निकाला जा सका (फोटो-सौरभ) क्रेन की मदद से बच्चे को निकाला जा सका (फोटो-सौरभ)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पतंग के चक्कर में तबेला के अंदर गया बच्चा
  • गोबर पर कूदने की वजह से धंसता चला गया
  • दुर्वेश अपने माता-पिता की इकलौती संतान था

मुंबई में मकर संक्रांति के रंग में उस समय भंग पड़ गया जब पतंग पकड़ने के चक्कर में एक बच्चे की गोबर के ढेर में फंस जाने की वजह से मौत हो गई. पुलिस ने घटना के बाद एडीआर रजिस्टर कर लिया है.

मकर संक्रांति के दिन एक ह्दय विदारक घटना घटी जब 10 साल के एक बच्चे की गाय के गोबर के बड़े से ढेर में डूब जाने से मौत हो गई. बच्चा पतंग पकड़ने के चक्कर में एक बड़े क्षेत्र में रखे गोबर के ढेर में घुस गया. लेकिन वह वहां से निकल नहीं पाया.

यह घटना गुरुवार यानी मकर संक्रांति के दिन हुई. पुलिस अधिकारियों ने इस मामले में अभी के लिए एडीआर दर्ज की है और अगर आवश्यकता हुई तो जांच के अनुसार लापरवाही का मामला भी दर्ज किया जा सकता है.

गोबर के इसी ढेर में फंस गया दुर्वेश
गोबर के इसी ढेर में फंस गया दुर्वेश

बच्चे की पहचान कांदिवली इलाके के रहने वाले दुर्वेश जाधव के रूप में हुई है. दुर्वेश अपने माता-पिता की इकलौती संतान था.

क्रेन से निकाला जा सका

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, मकर संक्रांति का दिन था, पूरा दिन दुर्वेश पतंगों के साथ खेल रहा था. उसकी सोसाइटी के पास एक 'तबेला' है और यहां पर बड़े क्षेत्र में गाय का ढेर सारा गोबर रखा हुआ था. जाधव ने देखा कि गोबर के ढेर के पास पतंग पड़ी हुई है. दुर्वेश अंदर चला गया और जैसे ही वह वहां पर कूदा गोबर में गिर गया. वह मदद के लिए चिल्ला भी रहा था.

देखें: आजतक LIVE TV

इस बीच 'तबेला' के बगल में निर्माणाधीन इमारत में काम करने वाले कुछ लोगों ने बच्चे को गोबर में फंसे हुए देखा और दूसरों को अलर्ट किया. स्थिति यह थी कि कोई भी गोबर वाले क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकता था क्योंकि यह बेहद खतरनाक होता. मौके पर पहुंची पुलिस और फायर ब्रिगेड भी अंदर नहीं घुस सकी.

दुर्वेश पूरी तरह से गोबर के अंदर डूब गया था. निर्माणाधीन इमारत के क्रेन और श्रमिकों की मदद से दुर्वेश को बाहर निकाला गया. जाधव को तुरंत अस्पताल ले जाया गया लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया गया. कांदिवली पुलिस अब इस मामले की जांच कर रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें