scorecardresearch
 

ई-सिगरेट बैन होने पर बोले मिलिंद देवड़ा- बढ़ सकती है तंबाकू उत्पादों की मांग

नरेंद्र मोदी सरकार ने ई-सिगरेट को पूरी तरह से बैन करने का फैसला किया है. जिस पर महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता मिलिंद देवड़ा का कहना है कि तंबाकू सिगरेट या बीड़ी और गुटखा की तुलना में ई-सिगरेट कम हानिकारक है.

मिलिंद देवरा (फाइल फोटो) मिलिंद देवरा (फाइल फोटो)

  • मोदी सरकार ने ई-सिगरेट को पूरी तरह से किया बैन
  • मिलिंद देवड़ा बोले- बीड़ी और गुटखा की तुलना में ये कम हानिकारक

नरेंद्र मोदी सरकार ने ई-सिगरेट को पूरी तरह से बैन करने का फैसला किया है. मोदी सरकार के फैसले पर महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता मिलिंद देवड़ा का कहना है कि तंबाकू सिगरेट या बीड़ी और गुटखा की तुलना में ई-सिगरेट कम हानिकारक है. उनका कहना है कि आज का प्रतिबंध आधा है क्योंकि इससे तंबाकू उत्पादों की मांग में इजाफा हो सकता है.

देवड़ा ने ट्वीट कर कहा कि अगला कदम सभी तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध के रूप में होना चाहिए. बता दें कि बुधवार को हुई मोदी कैबिनेट की बैठक में ई-सिगरेट को बैन करने का फैसला लिया गया. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि ई-सिगरेट पर बैन का मतलब इसके उत्पादन, आयात-निर्यात, ट्रांसपोर्ट, बिक्री, वितरण और विज्ञापन पर पूर्ण प्रतिबंध है. उन्होंने कहा कि सरकार के नए फैसले से ई-सिगरेट के जरिए धुम्रपान सिख रहे युवाओं पर लगाम लगेगी.

स्वास्थ्य और परिवार विभाग की सचिव प्रीति सुदन ने कहा कि नये नियमों के मुताबिक अगर कोई ई-सिगरेट बेचता है, इंपोर्ट या एक्सपोर्ट करता है तो पहली बार में उसे 1 साल की सजा या 1 लाख का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है, अगर कोई आगे भी ये अपराध करता है तो  तो 3 लाख का जुर्माना या फिर 5 साल की सजा या फिर दोनों हो सकता है.

माना जाता है कि ई-सिगरेट के 400 ब्रांड हैं, हालांकि भारत में ई सिगरेट का कोई ब्रांड नहीं बनता है. रिपोर्ट के मुताबिक ई सिगरेट के 150 फ्लेवर बाजार में मिलते हैं. कैबिनेट द्वारा बैन की लिस्ट में ई-हुक्का भी शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें