scorecardresearch
 

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा, 100 करोड़ वसूली की CBI जांच के आदेश के बाद गया पद

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने बीते दिनों एक चिट्ठी लिख कर अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये की वसूली करने का आरोप लगाया था.

100 करोड़ वसूली मामले से निशाने पर आए थे अनिल देशमुख (फोटो: PTI) 100 करोड़ वसूली मामले से निशाने पर आए थे अनिल देशमुख (फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अनिल देशमुख का गृह मंत्री पद से इस्तीफा
  • 100 करोड़ रुपये की वसूली का लगा था आरोप
  • हाईकोर्ट ने सुबह ही दिए थे जांच के आदेश

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने बीते दिनों एक चिट्ठी लिख कर अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये की वसूली करने का आरोप लगाया था. इसी के बाद से ही अनिल देशमुख हर किसी के निशाने पर थे.

सोमवार को जब बॉम्बे हाईकोर्ट ने उनके खिलाफ सीबीआई जांच को मंजूरी दी, तो अनिल देशमुख ने इस्तीफा देने की बात कही है. 

बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी थी सीबीआई जांच को मंजूरी
आपको बता दें कि परमबीर सिंह ने इस मामले में हाईकोर्ट का रुख किया था. बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोमवार सुबह ही निर्देश दिया था कि इन आरोपों की जांच सीबीआई करे. सीबीआई को अगले पंद्रह दिनों में एक शुरुआती रिपोर्ट देनी होगी, इसी के बाद ये तय होगा कि अनिल देशमुख पर FIR दर्ज होगी या नहीं. 

अनिल देशमुख पर क्या आरोप थे?
एंटिलिया मामले के बाद से ही महाराष्ट्र में लगातार संकट देखने को मिल रहा है. इस मामले के कुछ दिन बाद मुंबई के कमिश्नर पद से परमबीर सिंह का ट्रांसफर कर दिया गया था. तब परमबीर सिंह ने एक चिट्ठी लिखी थी, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि अनिल देशमुख अपने आवास पर सचिन वाज़े से मुलाकात करते थे. साथ ही उन्होंने हर महीने मुंबई से 100 करोड़ रुपये की वसूली करने की बात कही थी.  

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने अनिल देशमुख के इस्तीफे के बारे में कहा कि हाईकोर्ट के आदेश के बाद अनिल देशमुख इस पद पर नहीं रहना चाहते थे. इसलिए उन्होंने पद छोड़ने की बात कही है, वह मुख्यमंत्री से मिलकर अपना इस्तीफा देंगे.  

हुआ था लंबा विवाद, शरद पवार ने किया था बचाव
परमबीर सिंह की चिट्ठी के बाद काफी विवाद हुआ था. हालांकि, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने शुरुआत में ही अनिल देशमुख के इस्तीफे से इनकार कर दिया था. शरद पवार ने कहा था कि परमबीर सिंह के आरोप राजनीति से प्रेरित लगते हैं, ऐसे में इस्तीफे का सवाल नहीं होता है. हालांकि, तब अनिल देशमुख के अस्पताल होने या बाहर होने पर भी विवाद हुआ. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें