scorecardresearch
 

महाराष्ट्र सरकार के 150 करोड़ के प्याज अनुदान से किसान नाराज, अच्छे अनुदान की मांग

Maharashtra onion farmers: महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के प्याज उत्पादक किसानों को राहत देने के लिए 150 करोड़ रुपये के अनुदान देने का ऐलान किया है, लेकिन किसान इस फैसले से खुश नहीं हैं. किसानों का कहना है कि प्याज की खेती करने वाले किसानों को यह अनुदान नहीं लेना चाहिए.

X
सांकेतिक फोटो ( Reuters)
सांकेतिक फोटो ( Reuters)

महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को राज्य के प्याज उत्पादक किसानों के लिए 150 करोड़ रुपये के अनुदान की घोषणा की गई है. लेकिन इससे प्याज उत्पादक किसान खुश नहीं हैं. एक हफ्ते पहले जिस किसान ने अपने 750 किलो प्याज बेचने पर सिर्फ 1064 रुपये मिलने से नाराज होकर यह पैसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से मनी ऑर्डर कर दिया था. राज्य में किसान प्याज की उचित कीमत की मांग लंबे समय से कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पैसा मनी ऑर्डर करने वाले किसान संजय साठे ने आजतक को बताया कि 150 करोड़ रुपये का अनुदान यानि एक क्विंटल के लिए सिर्फ 200 रुपये यानि एक किलो प्याज पर सिर्फ 2 रुपये अतिरिक्त पैसे सरकार देने वाली है. साठे ने आजतक से बातचीत में बताया कि यह अनुदान उन किसानों को मिलेगा, जिन्होंने एक नवंबर से 15 दिसंबर तक प्याज मुख्य मंडी में बेचा और उसके प्याज को कम दाम मिले, लेकिन आज की स्थिति बहुत खराब है.

उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि किसानों का प्याज 100 रुपये क्विंटल बेचा जा रहा है. यानि किसानों को सिर्फ एक रुपया प्रति किलो इतना ही भाव मिल रहा है. संजय साठे का सरकार को सुझाव है कि सभी किसानों के लिए एक जैसा निर्णय लेना चाहिए. साठे बताया कि एक प्रतिष्ठित संस्था जो प्याज पर रिसर्च करती है उसके मुताबिक एक किलो प्याज उगाने के लिए 8 से 9 रुपया खर्चा आता है. तो सरकार का हिसाब कहीं तो गलत हो रहा है या फिर सरकार के नुमाइंदों को हिसाब करना नहीं आता.

साठे ने कहा कि सरकार को ऐसा निर्णय लेना चाहिए था जिससे सभी किसानों को राहत मिल सकती थी. साठे ने सभी किसानों से अनुरोध किया है कि सरकार द्वारा दिए गए इस अनुदान को स्वीकारना नहीं चाहिए और अच्छे घोषणा के लिए सरकार पर दबाव बनाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें