scorecardresearch
 

महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ पर औरंगाबाद में हमला

महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ और उनकी पत्नी के साथ औरंगाबाद में कथित तौर पर मारपीट की घटना हो गई. मारपीट की यह घटना सोमवार दोपहर शुभेदारी गेस्ट हाउस में घटित हुई.

महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ पर हमला महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ पर हमला

महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ और उनकी पत्नी के साथ औरंगाबाद में कथित तौर पर मारपीट की घटना हो गई. मारपीट की यह घटना सोमवार दोपहर शुभेदारी गेस्ट हाउस में घटित हुई. जानकारी के मुताबिक गायकवाड़ के साथ भारिपा नेता प्रकाश अंबेडकर के श्रमिकों ने वारदात को अंजाम दिया है. इस मारपीट में गायकवाड़ की छाती में चोट लगी है. गायकवाड़ पर हमला करने वाले खुद को प्रकाश अंबेडकर की पार्टी भारिपा बहुजन महासंघ के कार्यकर्ता बता रहे थे. मारपीट करने वालों का आरोप है कि, गायकवाड़ ने बाबा साहब के भवन के रिकंस्ट्रक्शन के नाम पर उनकी चीजों को नुकसान पहुंचाया है.

सोमवार दोपहर भारिपा के पूर्व नगरसेवक अमित भुइगल कुछ कार्यकर्ताओं के साथ गेस्ट हाउस पहुंचे और रत्नाकर गायकवाड़ पर हमला कर दिया. कार्यकर्ताओं ने गायकवाड़ पर चप्पलों और घूसों से कई बार प्रहार किया. उनके साथ दो महिला कार्यकर्ता भी थीं. उन्होंने गायकवाड़ की पत्नी की पिटाई की. मुंबई में अंबेडकर भवन गिराने के कारण गायकवाड़ को विरोध झेलना पड़ रहा था. घटना के दौरान गायकवाड़ की पत्नी की भी पिटाई करने की कोशिश की गई. पति गायकवाड़ को बचाने के चक्कर में उन्हें भी कुछ चोटें आईं. बेगापुरा पुलिस ने मामले में 4 पुरुषों और तीन महिला कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है.

बताया जा रहा है कि अंबेडकर भवन विध्वंस को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है. घटना की प्रतिक्रिया में रत्नाकर गायकवाड़ ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया वहीं प्रकाश अंबेडकर ने मामले पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया.

विरोध की वजह
- डॉ. बाबासाहब अंबेडकर द्वारा पीपुल्स इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट की स्थापना की गई थी. इसके तहत मुंबई के दादर में अंबेडकर भवन बनाया गया.
- इस बिल्डिंग को जर्जर अवस्था में पाकर वहां 17 मंजिला नया अंबेडकर भवन बनाने का प्रस्ताव सरकार ने दिया है. रिकंस्ट्रक्शन के प्रस्ताव के रखे जाने से ही ट्रस्टी और बाबा साहब के परिजनों के बीच विवाद शुरू हो गया था.
- हाल ही में अंबेडकर भवन को जर्जर अवस्था में पाकर इसे तोड़ दिया गया. जिससे यह विवाद और बढ़ गया. डॉ. अंबेडरकर के तीनों पोते भीमराव, प्रकाश और आनंदराज रिकंस्ट्रक्शन प्रस्ताव का विरोध कर रहे हैं.
- उनका कहना है कि, रीकंस्ट्रक्शन के बहाने से बाबासाहब की इस्तेमाल हुई चीजों को नुकसान पहुंचाया गया.
- महाराष्ट्र के मुख्य सूचना आयुक्त रत्नाकर गायकवाड़ इसी ट्रस्ट के सलाहकार हैं. इसी कारण उन्हें कार्यकर्ताओं के गुस्से का सामना करना पड़ा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें