scorecardresearch
 

जहां आग लगी वहां भूल-भुलैया है, मुझे जाने से डर लगता है: जया बच्चन

हर तरफ खाने-पीने की दुकानें और रेस्टोरेंट हैं. मुझे तो कई बार वहां जाने पर भी डर लगता है. ऐसे इलाकों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होना चाहिए. आखिर लोगों की जिंदगी का सवाल है.

जया बच्चन. जया बच्चन.

बीती रात मुंबई के वन अबव पब में लगी भीषण आग में अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी, जबकि 15 से ज्यादा लोग घायल हैं. इस हादसे को लेकर सांसद जया बच्चन ने रेस्टोरेंट की सुरक्षा व्यवस्था और बीएमसी की कार्य पद्धति पर सवाल उठाए हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसे इलाके में रेस्टोरेंट को परमिशन कैसे दी गई. क्या सुरक्षा के नियम नहीं देखे गए. मैं कमला मिल्स इलाके में गई हूं. वह जगह पूरी भूल-भुलैया है. गलियां इतनी संकरी है कि वहां चलना भी मुश्किल है.

हर तरफ खाने-पीने की दुकानें और रेस्टोरेंट हैं. मुझे तो कई बार वहां जाने पर भी डर लगता है. ऐसे इलाकों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होना चाहिए. आखिर लोगों की जिंदगी का सवाल है.छोटी से भूल चूक किसी की भी जान ले सकती है.इसीलिए सावधानी बरतना जरुरी है.

उन्होंने आगे कहा कि इस मामले को राजनीति में नहीं घसीटना चाहिए. यह इंसानों की गलती है. सही इंतजाम ना होने पर यह हादसा हुआ. हम पूरी तरह सरकार पर निर्भर होते हैं, लेकिन ये गलत है.

इस हादसे में रेस्टोरेंट के मालिकों की भी उतनी ही गलती है जितनी कि प्रशासन की है. आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.साथ ही  यह देखना चाहिए कि बाकी पब में पुख्ता इंतजाम है या नहीं.

बता दें कि बीती रात मुंबई के वन अबव पब में लगी भीषण आग में 14 लोगों की मौत हो गई. आग पहले रेस्टोरेंट में लगी, इसके बाद पब को भी इसने अपने चपेट में ले लिया. आग ने इतना रौद्र रूप धारण कर लिया था कि कुछ ही देर में पूरा पब और रेस्टोरेंट जलकर ख़ाक हो गया.

मालूम हो कि जिस इलाके में अग्निकांड हुआ वहां गलियां बेहद संकरी हैं. आए दिन वहां ट्रैफिक के अलावा वेंटिलेशन की समस्या होती है. ख़ास कर वीकेंड पर यहां भारी भीड़ उमड़ती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें