scorecardresearch
 

मुंबईः 5 मंजिला जैन मंदिर कोविड सेंटर में तब्दील, 100 ऑक्सीजन बेड होंगे उपलब्ध

एक तरफ देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ती जा रही है. तो दूसरी तरफ मदद के लिए लोग आगे भी आ रहे हैं. मुंबई में संक्रमण बढ़ने के बाद वहां के एक जैन मंदिर को कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया है. ये सेंटर अगले दो-तीन दिन में शुरू हो जाएगा.

जैन मंदिर में ऑक्सीजन बेड का किराया 3 हजार रुपए प्रतिदिन होगा. जैन मंदिर में ऑक्सीजन बेड का किराया 3 हजार रुपए प्रतिदिन होगा.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पावन धाम जैन मंदिर कोविड केयर सेंटर में तब्दील
  • अगले दो से तीन दिनों में शुरू हो जाएगी मरीजों की भर्ती

एक तरफ मुंबई बुरी तरह से कोरोनावायरस से जूझ रहा है, तो दूसरी तरफ कुछ ऐसे लोग भी हैं जो इसे सहारा देने के लिए आगे आ रहे हैं. मुंबई में कोरोना संक्रमण से बहुत बुरे हालात हैं. यहां मरीजों को बेड नहीं मिल रहा है. बेड मिल रहा है, तो ऑक्सीजन नहीं मिल रही. इसी परेशानी को दूर करने के लिए जैन समाज के लोगों ने मंदिर को कोविड केयर सेंटर में तब्दील कर दिया है. इस कोविड सेंटर में 100 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है.

मुंबई के कांदिवली इलाके में स्थित पावन धाम जैन मंदिर को कोविड केयर सेंटर में बदला जा रहा है. मंदिर प्रशासन का कहना है कि मुंबई में ऑक्सीजन बेड की किल्लत हो रही है. बेड नहीं मिलने से मरीजों की मौत हो जा रही है. उन्हें ना तो सरकारी और ना ही प्राइवेट अस्पतालों में बेड मिल पा रहे हैं. ऐसी हालात में लोगों की मदद करने के लिए जैन मंदिर को कोविड सेंटर में बदलने का फैसला लिया गया. 

मंदिर के सेवर प्रदीप मेहता बताते हैं, "सेवा और दान जीवन की सबसे जरूरी चीज है. हमारे जैन मंदिर में स्टडी रूम, मेडिटेशन रूम, किचन और कई सारी सुविधाएं हैं. ये 5 मंजिला है और अभी तक यहां धार्मिक गतिविधियां हो रही थीं. लेकिन इस संकट की घड़ी में हमने इसे कोविड केयर सेंटर में बदल दिया है."

प्रदीप आगे कहते हैं, "कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन बहुत जरूरी है, इसलिए हमारे सेंटर में 100 ऑक्सीजन बेड है. सारे इंतजाम हो चुके हैं. एक या दो दिन में ये सेंटर मरीजों के लिए शुरू हो जाएगा. हमारे पास एक्स-रे मशीन और बाकी मेडिकल उपकरण भी मौजूद हैं. बड़े अस्पतालों में काम कर रहे हमारे डॉक्टर्स और स्टाफ यहां सेवा करेंगे."

उन्होंने बताया कि यहां ऑक्सीजन बेड बेहद मामूली रेट पर मिलेंगे. सिर्फ 3 हजार रुपए प्रतिदिन. इसमें ऑक्सीजन बेड के अलावा इलाज, दवाइयां, डॉक्टर की फीस और पूरे दिन का खाने जैसी सुविधाएं रहेंगी. उन्होंने कहा, "सबसे जरूरी बात कि मरीजों को यहां अच्छा वातावरण मिलेगा, जो उन्हें जल्दी रिकवर करने में मदद करेगा."

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें