scorecardresearch
 

देश की सबसे अमीर महानगरपालिका ने पेश किया 45,949 करोड़ का बजट, BEST को दिए 800 करोड़

महाराष्ट्र की बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) ने साल 2022-23 के लिए 45 हजार 940.78 करोड़ रुपये का बजट पेश किया. इस बार के बजट में पिछले साल के मुकाबले में 17.70% बढ़ोतरी की गई है.

X
2021-22 में BMC का बजट 39 हजार 38.83 करोड़ रुपये था. (फाइल फोटो) 2021-22 में BMC का बजट 39 हजार 38.83 करोड़ रुपये था. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • BMC ने पेश किया 45,949 करोड़ रुपये का बजट
  • साल 2021-22 में BMC का बजट 39 हजार 38.83 करोड़ रुपये था

आम बजट (Budget 2022-23) के बाद गुरुवार को देश की सबसे अमीर महानगरपालिका के नाम से विख्यात महाराष्ट्र की बृहन्मुंबई महानगरपालिका (BMC) का वित्तीय बजट भी पेश किया गया. बीएमसी ने साल 2022-23 के लिए 45 हजार 940.78 करोड़ रुपये का बजट पेश किया, जिसमें कि पिछले साल के बजट के मुकाबले में 17.70% बढ़ोतरी की गई है. यानी वित्तीय वर्ष 2021-22 में BMC का बजट 39 हजार 38.83 करोड़ रुपये था. 

इस बजट में कई तरह के नई उपक्रमों के जरिए बीएमसी के रेवेन्यू को बढ़ाने की भी तैयारी की गई है. उद्धव ठाकरे पर्यावरण मंत्री हैं, ऐसे में पर्यावरण को लेकर कई नीतियां बनाई गई हैं. क्लाइमेट एक्शन सेल का निर्माण किया गया है. इसके लिए 1 करोड़ रुपये बजट की घोषणा की गई है .  BMC कमिश्नर आईएस चहल ने  बजट पेश करते हुए बताया कि मलाड में प्रस्तावित डीसैलिनैशन प्लांट के लिए 200 करोड़ रुपये आबंटित किए  हैं, जिसकी क्षमता प्रतिदिन 200 मिलियन लीटर होगी. इसके अलावा मुंबई कोस्टल रोड प्रोजेक्ट के लिए 3,500 करोड़ रुपये दिए गए हैं.

बृहन्मुंबई बिजली आपूर्ति और परिवहन (BEST) की स्थिति बेहद गंभीर है. ऐसे में बेस्ट की तरक्की के लिए भी 800 करोड की राशि दी जाएगी. बीएमसी ने गोरेगांव-मुलुंड लिंक रोड परियोजना के लिए 1,300 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है. इस बार  BMC डिजिटल विज्ञापन की अनुमति देकर कमाई के और रास्ते खोजेगी. फिलहाल BMC की एडवरटाइजमेंट पॉलिसी गाइडलाइन का ड्राफ्ट, राज्य सरकार के पास है और उसे मंजूरी का इंतजार है.

बीएमसी का शिक्षा का बजट अलग से पेश किया जाता है जिसमें बीएमसी ने स्कूलों में 224 कंप्यूटर लैब के लिए 11.2 करोड़ रुपये का बजट आवंटन किया गया है.  साथ ही वर्चुअल ट्रेनिंग सेंटर  के लिए 38.02 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

जिस जिजामाता उद्यान को लेकर लगातार विवाद होता रहता है, उस जू यानी चिड़ियाघर के लिए इस वर्ष 115 करोड़ का बजट रखा गया है, जो कि पिछले साल के 30 करोड़ के मुकाबले काफी ज्यादा है. इतना ही नहीं, BMC के शिक्षा बजट में मुंबई के नए स्कूलों के लिए पर्याप्त प्रावधान नहीं है. मुंबई में पब्लिक स्कूलों की संख्या बढ़ाने पर कोई प्रावधान नहीं है. मंत्री आदित्य ठाकरे ने हर वार्ड में नेशनल-इंटरनेशनल बोर्ड स्कूल शुरू करने की जताई थी. हालांकि, इस साल के बजट में केवल दो नए अंतरराष्ट्रीय बोर्ड स्कूल, कैम्ब्रिज और आईबी बोर्ड से एक-एक स्कूल की घोषणा की गई है.

बृहन्मुंबई महानगरपालिका से जुड़े राजीनीतिक नेताओं ने बीएमसी के बजट को लेकर अपनी राय रखी है. एनसीपी की राखी जाधव ने कहा कि महिला सुरक्षा और विकास को लेकर इस बजट में कुछ नहीं है, जबकि कांग्रेस के रवि राजा ने ZOO के बजट का समर्थन करते हुए कहा, इस चिड़ियाघर को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने के लिए बजट की आवश्यकता है. हालांकि, शिवसेना से  BMC स्थाई समिति अध्यक्ष के अध्यक्ष का कहना है कि जो मुंबई ने जो आज बजट पेश किया है, वो बजट नागरिकों के विकास और भविष्य के तौर पर बहुत अच्छा है. मुख्यमंत्री उद्धव और मंत्री आदित्य ठाकरे ने वचन पूरे किए हैं. यह बजट पिछले साल से 17 % से ज्यादा का बजट है. बढ़ोतरी जो है स्वस्थ्य और शिक्षा के मद्देनजर की गई है. कोरोना को ध्यान में रखा गया है. बेस्ट को भी संभालने का काम भी इस बजट में किया गया है. 

इनपुट- पारस दामा

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें