scorecardresearch
 

मुंबई में कोरोना वैक्सीन देने की तैयारी शुरू, तीन चरणों में होगा वैक्सीनेशन

मुंबई में पहले चरण में 1,25,000 हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन दी जाएगी. 10 से 15 दिनों के अंदर बीएमसी, सभी हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीन देगी.

X
महाराष्ट्र में तीन फेज में होगा वैक्सीनेशन (पीटीआई)
महाराष्ट्र में तीन फेज में होगा वैक्सीनेशन (पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वैक्सीन के लिए जोर शोर से तैयारी शुरू
  • मुंबई में टास्क फोर्स की पहली मीटिंग हुई
  • तीन चरणों में दिया जाएगा कोविड वैक्सीन

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) वैक्सीन बांटने के लिए जोर शोर से तैयारी कर रही है. शुक्रवार को मुंबई में टास्क फोर्स की पहली मीटिंग हुई, जहां पर लोगों को कोरोना वैक्सीन किस आधार पर दी जाएगी, इसको लेकर चर्चा की गई. बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा कि तीन चरणों में कोविड वैक्सीन दी जानी है.

सबसे पहले हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीन दी जाएगी, क्योंकि वे लोग कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे हैं. उसके बाद पुलिस, ट्रांसपोर्टेशन, साफ-सफाई कर्मचारी या वे शख्स जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कोविड से लड़ रहा है, उन सभी को वैक्सीन दी जाएगी. तीसरे और आखिरी चरण में 50 साल से ऊपर उम्र के व्यक्ति और बीमार लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. 

उन्होंने बताया कि पहले चरण में 1,25,000 हेल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन दी जाएगी. 10 से 15 दिनों के अंदर बीएमसी, सभी हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीन देगी. उसके 21 या 28 दिन बाद इन्हें दूसरी डोज दी जाएगी. बीएमसी के पास यहां के चार मेडिकल कॉलेज में 1.5 -2 लाख वैक्सीन को तत्कालीन तरीके से स्टोर करने की क्षमता है. साथ ही परमानेंट स्टोरेज के लिए कंजुरमार्ग में 5 मंजिला इमारत ले ली गई है, इसमें से तीन मंजिलों को कोल्ड स्टोरेज बना कर इस्तेमाल किया जाएगा. 

केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक बीएमसी के पास दो तरह के वैक्सीन आ सकते हैं. पहले वैक्सीन के लिए (-2) से (-8) तक के टेंपरेचर की जरूरत रहेगी है जबकि दूसरे के लिए (-15) से (-25) तक के टेंपरेचर की जरूरत रहेगी और इसी हिसाब से बीएमसी स्टोरेज की तैयारी कर रही है. 

देखें: आजतक LIVE TV

पहले चरण में बीएमसी के पास 8 वैक्सीनेशन सेंटर रहेंगे. चार मेडिकल कॉलेज और चार बीएमसी के अस्पताल में यह वैक्सीन दी जाएगी. इन सेंटर्स तक ट्रांसपोर्टेशन का मोड और तरीका सब तय कर लिया गया है. बीएमसी के पास 300 कोल्ड चेन बॉक्स हैं, जिनमें उतना ही टेंपरेचर रहेगा जितना कि कोल्ड स्टोरेज में वैक्सीन स्टोर करने के लिए मुहैया कराया जाता है. 

बीएमसी ने इस काम के लिए 500 टीम बनाई हैं. हर टीम में 5 लोग रहेंगे. एक व्यक्ति वैक्सीन देने वाला, एक जांच पड़ताल करने वाला, दो सपोर्ट स्टाफ और एक सिक्योरिटी पर्सनल. बीएमसी ने अपनी टीम को शुरुआती ट्रेनिंग भी दे दी है. 
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें