scorecardresearch
 

रोपवे हादसा: 45 घंटे के बाद खत्म हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन, रस्सी से फिसलकर गिरी महिला, मौत

झारखंड में देवघर हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. करीब 45 घंटे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान वायुसेना, एनडीआरएफ, आईटीबीपी और स्थानीय प्रशासन ने हवा में अटके हुए लोगों को बाहर निकाल लिया है. इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई.

X
देवघर रोपवे हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन करीब 45 घंटे तक चला
देवघर रोपवे हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन करीब 45 घंटे तक चला
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 45 घंटे तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन
  • रोपवे हादसे में 3 लोगों की मौत

झारखंड के देवघर में त्रिकूट पर्वत पर रोपवे में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए चलाया गया रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. करीब 45 घंटे की जद्दोजहद के बाद हवा में अटके लोगों को बचा लिया गया है. इस हादसे में तीन लोगों की मौत हुई है, जिसमें से दो की मौत तो रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान हुई.

रविवार शाम 4 बजे त्रिकूट पर्वत पर रोपवे की ट्रालियां आपस में टकरा गई थीं. इस हादसे करीब आधा दर्जन ट्रालियां हवा में अटक गई थीं, जिसमें करीब 50 से अधिक लोग सवार थे. जिस वक्त हादसा हुआ, उस वक्त कुछ लोग घायल हुए थे, जिनमें एक की मौत हो गई थी. इसके बाद सेना, आईटीबीपी, एनडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन ने 45 घंटे तक रेस्क्यू अभियान चलाकर बाकी लोगों को निकाला.

इस हादसे में अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है. मंगलवार को एक महिला रस्सी से फिसल गई, जिसकी भी मौत हो गई. आईटीबीपी का कहना है कि यह मुश्किल रेस्क्यू अभियान था, क्योंकि हजारों मीटर की ऊंचाई पर लोग हवा में अटके हुए थे, उनके पास पहुंचना मुश्किल था. ट्रालियों में फंसे लोगों को ड्रोन के जरिए खाना और पानी पहुंचाया जा रहा था.

Jharkhand Ropeway Accident Rescue Update

1:05 PM: करीब 45 घंटे बाद देवघर रोपवे हादसे का रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. हवा में अटके हुए लोगों को नीचे उतार लिया गया है. इस हादसे में दो लोगों की मौत हुई, जबकि एक महिला आज रस्सी से नीचे गिर गई, जो गंभीर रूप से घायल है. आईटीबीपी के विवेक पांडे ने बयाता कि आज महिला के साथ हुआ हादसा दुर्भाग्यपूर्ण है, हम मानवीय कारणों से बचने की पूरी कोशिश कर रहे हैं लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई है। मरने वालों की संख्या 2 हुई हम मौत के कारणों का मूल्यांकन करेंगे.

12:48 PM: रोपवे की ट्रालियों में फंसे लोगों को बचाने लिए वायु सेना, सेना, भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), एनडीआरएफ और जिला प्रशासन की संयुक्त टीम का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. रेस्क्यू के दौरान हेलिकॉप्टर की रस्सी केबिन में फंसने से एक महिला नीचे गिर गई. इससे पहले कल एक शख्स रेस्क्यू के दौरान हेलिकॉप्टर के पास पहुंचकर फिर नीच गिर गया था, जिससे उसकी मौत हो गई थी.

12:40 PM: रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान एक और महिला गिर गई है. घटना के वक्त महिला का दामाद और अन्य रिश्तेदार ग्राउंड जीरो पर इंतजार कर रहे थे.

11:11 AM: पिछले 45 घंटे रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. अभी भी 3 लोगों के फंसे होने की संभावना है, जिन्हें सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है.

10:12 AM: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट करके कहा, 'तड़के सुबह से जारी त्रिकुट ऑपरेशन में अब तक 10 लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है, जिनमे बहनें और छोटे बच्चे भी हैं. अगले कुछ घंटों में हम सभी को सुरक्षित निकालने में सफल होंगे.'

9:50 AM: रोपवे की ट्रालियां में फंसे 15 लोगों में से 10 लोगों को सुबह-सुबह सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. अब 5 जिंदगियां हवा में अटकी हैं. वायुसेना, आईटीबीपी और एनडीआरएफ अभियान चला रहा है.

9:40 AM: रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. बचाव दल के प्रभारी अश्विनी नय्यर ने कहा कि हमारी प्राथमिकता है कि दोपहर तक सभी लोगों को बचा लिया जाए.

8:40 AM: रेस्क्यू टीम ने दो और लोगों को बचा लिया है. अब 8 लोग हवा में अटके हुए हैं.

7:50 AM: रेस्क्यू ऑपरेशन एक बार फिर शुरू हो गया है. मंगलवार की सुबह-सुबह रेस्क्यू टीम ने 5 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है. इसमें एक बच्ची भी शामिल है. अब 10 लोग हवा में लटके हुए हैं.

सोमवार को 30 लोगों का रेस्क्यू, दो की मौत

देवघर त्रिकुट रोपवे हादसे में सोमवार को 30 लोगों का रेस्क्यू किया गया था. इसके अलावा 2 लोगों की मौत हो गई थी. सोमवार देर शाम को अंधेरे के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन रोक लिया गया था. झारखंड सरकार का कहना है कि इस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी, हताहतों के प्रति हमारी पूरी संवेदना है, हमारी सरकार इनके लिए हरसंभव मदद करेगी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें