scorecardresearch
 

झारखंड: आफत की बारिश के बाद किसानों के सामने रोजी-रोटी का संकट

बीते कई दिनों से जारी बारिश ने झारखंड में जमकर तबाही मचाई है. इसकी चपेट में जहां आम नागरिक आए हैं वहीं इसकी जबरदस्त मार सब्जी उत्पादकों पर भी पड़ी है. सैकड़ों हेक्टेयर में लगी बीन्स, टमाटर, मिर्च, फूलगोभी जैसी सब्जियां बर्बाद हो गई है.

टमाटर की खेती बर्बाद होने से किसान चिंतित टमाटर की खेती बर्बाद होने से किसान चिंतित

बीते कई दिनों से जारी बारिश ने झारखंड में जमकर तबाही मचाई है. इसकी चपेट में जहां आम नागरिक आए हैं वहीं इसकी जबरदस्त मार सब्जी उत्पादकों पर भी पड़ी है. सैकड़ों हेक्टेयर में लगी बीन्स, टमाटर, मिर्च, फूलगोभी जैसी सब्जियां बर्बाद हो गई है.

दरअसल रांची और आसपास का इलाका सब्जी की ऊपज के लिए जाना जाता है. यहां से सब्जियां दूसरे राज्यों में भी भेजी जाती है, अधिकतर किसानों ने लोन लेकर सब्जी लगाई थी. अब इन किसानों के सामने भी रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है.

कर्ज लेकर सब्जी की खेती करते हैं किसान खेतों में लगी फसलों की तबाही का मंजर देख किसान अपनी किस्मत पर रो रहे हैं. सबसे अधिक नुकसान टमाटर और बीन्स जैसी सब्जियों का हुआ है. बारिश की वजह से एक ओर जहां टमाटर के पौधे गल गए, वहीं दूसरी ओर जो कुछ बचे हैं उनमें या तो कीड़े लग गए हैं या फल अधपके रह गए हैं. ऐसे में किसानों का कहना है कि खेती के बर्बाद होने से उनके समक्ष रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है.

बारिश से सब्जियां बर्बाद कभी सूखाग्रस्त घोषित रांची जिले में मानसून के दौरान इस कदर बारिश हुई कि नदी और तालाब उफान पर हैं. रांची से उगाई जानेवाली सब्जियां पड़ोस के ओडिशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में भेजी जाती है. ऐसे में फसलों की बर्बादी के साथ-साथ बैंकों का ब्याज चुकाने का भय किसानों को खाये जा रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें