scorecardresearch
 

जाकिर मूसा के खात्मे के बाद अब्दुल हमीद बना अंसार गजवत उल हिंद का नया चीफ

जाकिर मूसा को इंडियन आर्मी ने 23 मई को मार गिराया था. उसके मारे जाने के बाद अब अल-कायदा के इंडियन सबकॉन्टिनेंट (AQIS) के प्रवक्ता ने एक ऑडियो बयान जारी कर अब्दुल हमीद ललहारी को संगठन का चीफ बनाए जाने की घोषणा की है.

हमीद ललहारी अंसार गजवत उल हिंद का नया चीफ घोषित हमीद ललहारी अंसार गजवत उल हिंद का नया चीफ घोषित

आतंकवादी जाकिर मूसा के खात्मे के बाद आतंकी संगठन अंसार गजवत उल हिंद ने अपने नये चीफ का ऐलान किया है. जाकिर मूसा के बाद जम्मू-कश्मीर में खौफ फैलाने और दहशत फैलाने की जिम्मेदारी हामिद ललहारी नाम के आतंकी को दी गई है. हामिद ललहारी स्थानीय आतंकी है. हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े रहे कमांडर मूसा को 27 जुलाई 2017 को अंसार गजवत उल हिंद का चीफ बनाया गया था. अंसार गजवत उल हिंद कुख्यात आतंकी संगठन अल कायदा की भारत की शाखा का नाम है. इस संगठन का काम भारत में अल कायदा की गतिविधियां फैलाना है.

आतंकी हामिद ललहारी जाकिर मूसा का सहयोगी रहा है. जाकिर मूसा को इंडियन आर्मी ने 23 मई को मार गिराया था. इसके बाद अंसार गजवत उल हिंद के चीफ का पद खाली था. अल- कायदा के इंडियन सबकॉन्टिनेंट (AQIS) के प्रवक्ता ने एक ऑडियो बयान जारी कर अब्दुल हमीद ललहारी को संगठन का चीफ बनाए जाने की घोषणा की है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियां इस ऑडियो कंटेट की वैधता की जांच कर रही है. सूत्रों के मुताबिक अब्दुल हमीद ललहारी भारतीय एजेंसियों की निगाह में रहा है, वह काफी दिनों से घाटी में सक्रिय रहा है. हमीद ललहारी दक्षिण कश्मीर के एक गांव का रहने वाला है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 1 जुलाई से अमरनाथ यात्रा शुरू होने वाली है. इस दौरान सुरक्षा बलों को पूरे डेढ़ महीने तक जम्मू से लेकर अमरनाथ तक तीर्थयात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालनी होती है. इस संवेदनशील मौके पर अंसार गजवत उल हिंद द्वारा नये चीफ का ऐलान सुरक्षा बलों के लिए चुनौतीपूर्ण है.

आतंकी संगठन अंसार गजवत उल हिंद जम्मू-कश्मीर में इस्लामिक राज्य कायम करना चाहता हैं. इस संगठन ने एक वीडियो जारी कर कहा था कि अगर उनके इस एजेंडे का कोई विरोध करता है तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा. अंसार गजवत उल हिंद की इस धमकी को स्थानीय कश्मीरी नेताओं के खिलाफ माना गया था. इस वीडियो के आने के बाद हुर्रियत नेताओं ने जाकिर मूसा का बहिष्कार करने की भी धमकी दी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें