scorecardresearch
 

तीन राज्‍यों तक फैली जंगल की आग, रोकी गई वैष्‍णो देवी की यात्रा

उत्तराखंड सरकार आग को काबू करने के लिए हर प्रयास में जुटी है. सरकार की ओर से जारी एडवाइजरी के मुताबिक, जंगल की आग को नियंत्रित करने के लिए अधिकतम संसाधनों का प्रयोग किया जा रहा है.

वैष्‍णो देवी वैष्‍णो देवी

उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग लगातार फैलती जा रही है. इसको लेकर अब रेड अलर्ट भी जारी कर दिया गया है. जंगलों में लगी आग के मद्देनजर चार दिन का रेड अलर्ट जारी किया गया है. वहीं, उत्तराखंड की सरहद से लपटें बाहर निकलकर हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर को भी अपनी आगोश में ले रही हैं. इस आग की वजह से वैष्‍णो देवी की यात्रा को भी रोक दिया गया है.

उत्तराखंड सरकार आग को काबू करने के लिए हर प्रयास में जुटी है. सरकार की ओर से जारी एडवाइजरी के मुताबिक, जंगल की आग को नियंत्रित करने के लिए अधिकतम संसाधनों का प्रयोग किया जा रहा है. लोग आग के मद्देनजर सावधानी बरतें. एसडीआरएफ की टीमें लगातार आग बुझाने के काम में लगी हुई हैं. इसी कड़ी में अब ये अलर्ट जारी किया गया है.

आग बुझाने के तमाम प्रयासों के बावजूद भी उत्तराखंड में जंगल की आग अभी भी धधक रही है. वहीं, उत्तराखंड की सरहद से लपटें बाहर निकलकर हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर को भी अपनी आगोश में ले रही हैं. हिमाचल में भी शिमला के आसपास भीषण आग फैल चुकी है.

इसके अलावा जम्मू इलाके के वैष्‍णो देवी की पहाड़ियों पर हिमकोट और सांझी छत के जंगलों में आग लग गई. माता के दर्शन के लिए जा रहे भक्तों को सांस लेना भी दूभर हो गया है. हालात इतने खराब हो गए कि कटरा से भवन तक वैष्‍णो देवी यात्रा को रोक देना पड़ा है. प्रशासन को पानी के छिड़काव के लिए वायुसेना की मदद तक लेनी पड़ गई है.

इसी बीच मौसम विभाग ने भीषण गर्मी का अलर्ट भी जारी कर दिया है यानी इन तीन राज्यों में आग पर काबू पाना अब और मुश्किल होने वाला है. गर्मियों में उत्तराखंड के जंगलों में आग कोई नई बात नहीं है. लेकिन हैरानी ये है कि अबतक इसपर काबू पाने की कोशिश कामयाब नहीं हो पाई है. करोड़ों की संपत्ति का नुकसान तो हो ही रहा है. खतरा ये भी है कि कहीं इसकी चपेट में लोगों और जानवरों की जिंदगी ना आ जाए. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें