scorecardresearch
 

नेताओं को हिरासत में लेने से लोकतंत्र को नुकसान, महबूबा मुफ्ती हों रिहा: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग की है. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के समय से महबूबा मुफ्ती हिरासत में हैं.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो- PTI) कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो- PTI)

  • केंद्र सरकार ने पीडीपी नेता की हिरासत तीन महीने बढ़ा दी
  • नेताओं को हिरासत में लेने से लोकतंत्र को नुकसान- राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग की है. 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के समय से महबूबा मुफ्ती हिरासत में हैं.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'भारत का लोकतंत्र उसी दौरान क्षतिग्रस्त हो गया था जब भारत सरकार ने राजनीतिक नेताओं को अवैध तरीके से हिरासत में लिया था. ये समय है जब महबूबा मुफ्ती को छोड़ा जाए.'

राहुल गांधी ने यह मांग ऐसे समय की है जब महबूबा मुफ्ती की हिरासत को 3 महीने के लिए बढ़ा दिया गया है. पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती पिछले एक साल से हिरासत में हैं. उनकी हिरासत 31 जुलाई को और तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया.

J-K: महबूबा मुफ्ती की बेटी बोलीं- ऐतिहासिक नहीं काला दिन है 5 अगस्त

गौरतलब है कि पिछले साल अगस्त में जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को मोदी सरकार ने निरस्त कर दिया था. केंद्र सरकार के इस फैसले से पहले जम्मू-कश्मीर के दर्जनों नेताओं को हिरासत में लिया गया था. कुछ ही महीने पहले नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला को छोड़ा गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें