scorecardresearch
 

जम्मू कश्मीर: महबूबा मुफ्ती के आवास पर PDP कोर ग्रुप की बैठक

जम्मू कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए टेंशन बरकरार है. अब राज्य की पूर्व सीएम और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती की अध्यक्षता में PDP कोर ग्रुप की बैठक जारी है. यह बैठक श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती के घर पर हो रही है. वहीं राज्य के हालात पर राज्यपाल सत्यपाल मलिका का कहना है कि डरने की कोई जरूरत नहीं है. राज्यपाल ने बताया कि आतंकी हमले के चलते एडवाइजरी जारी की गई थी.

पीडीपी कोर ग्रुप की बैठक (फोटो-Twitter/@shahfaesal) पीडीपी कोर ग्रुप की बैठक (फोटो-Twitter/@shahfaesal)

जम्मू कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए टेंशन बरकरार है. अब राज्य की पूर्व सीएम और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती की अध्यक्षता में PDP कोर ग्रुप की बैठक जारी है. यह बैठक श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती के घर पर हो रही है. वहीं राज्य के हालात पर राज्यपाल सत्यपाल मलिका का कहना है कि डरने की कोई जरूरत नहीं है. राज्यपाल ने बताया कि आतंकी हमले के चलते एडवाइजरी जारी की गई थी.

बहरहाल, जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालात को देखते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि अगर राज्य में सब ठीक है तो केंद्र की ओर से ऐसे आदेश क्यों दिए जा रहे हैं. महबूबा मुफ्ती ने कहा, आखिर एनआईटी के छात्रों को जाने के लिए क्यों कहा गया?

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि कश्मीर की पहचान को बचाने के लिए सभी मुख्यधारा की पार्टियों को एकजुट होना चाहिए. दरअसल, सोशल मीडिया पर अफवाहें भरी पड़ी हैं कि अनुच्छेद 35ए को जल्द ही समाप्त करने की घोषणा होने वाली है. इसे देखते हुए जम्मू कश्मीर के नेताओं के अलग अलग बयान आ रहे हैं. एक दिन पहले ही सरकार ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए एडवाइजरी जारी की और अमरनाथ यात्रा को रोक दिया. इसके बाद से ही जम्मू कश्मीर में टेंशन बनी हुई है.

महबूबा मुफ्ती ने अनुच्छेद 35ए की रक्षा के लिए अपने धुर राजनीतिक विरोधी फारूक अब्दुल्ला से साथ देने का आग्रह किया है. महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को कहा कि उन्होंने प्रदेश के विशेष दर्जे की रक्षा के लिए फारूक अब्दुल्ला से सर्वदलीय बैठक बुलाने का आग्रह किया है.

महबूबा मुफ्ती ने एक ट्वीट के जरिए कहा, "हालिया घटनाक्रम से जम्मू-कश्मीर के लोगों में घबराहट पैदा हो गई है, इसलिए मैंने डॉ. अब्दुल्ला साहब से सर्वदलीय बैठक बुलाने का आग्रह किया है. एकजुटता के साथ जवाब देना वक्त की जरूरत है. हम कश्मीर के लोगों को एकजुट होने की जरूरत है."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें