scorecardresearch
 

जम्मू-कश्मीर: ग्राउंड जीरो पर NSA डोभाल, सुरक्षाबलों के साथ लिया हालात का जायजा

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर संसद से मुहर लगने के बाद अब चुनौती घाटी में शांति और कानून-व्यवस्था बनाए रखने की है. इसे लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों और पुलिस बलों से मुलाकात की और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया.

सुरक्षाबलों के साथ NSA डोभाल (Photo-ANI) सुरक्षाबलों के साथ NSA डोभाल (Photo-ANI)

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर संसद से मुहर लगने के बाद अब चुनौती घाटी में शांति और कानून-व्यवस्था बनाए रखने की है. इसे लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों और पुलिस बलों से मुलाकात की और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. इस दौरान राज्य के डीजीपी दिलबाग सिंह भी मौजूद रहे.

सुरक्षाबलों से मुलाकात के अलावा अजीत डोभाल ने शोपियां जिले में कुछ स्थानीय लोगों से बातचीत की और उनके साथ लंच किया. इसका एक वीडियो न्यूज एजेंसी एएनआई ने जारी किया है. अनुच्छेद 370 के दो प्रावधान हटाए जाने के बाद घाटी में सियासत गर्मा गई है. ऐसे में अलगाववादी युवाओं को भड़काने की पूरी कोशिश कर सकते हैं. किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार सुरक्षा में कोई कसर छोड़ना नहीं चाहती.

अब तक 100 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिसमें राजनेता और एक्टिविस्ट्स शामिल हैं. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटकर केंद्र शासित बनाने का फैसला किया गया है. अधिकारियों ने पीटीआई को बताया कि कुछ जगह पत्थरबाजी को छोड़कर जम्मू-कश्मीर के तीनों क्षेत्रों में स्थिति नियंत्रण में है. जम्मू-कश्मीर प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर में कुछ दुकानें खुली हैं और प्रतिबंधों के बावजूद लोगों की सड़कों पर आवाजाही भी शुरू हो गई है. कुछ वीडियो भी वायरल हुए हैं, जिसमें लोग श्रीनगर में दुकान खोलते, सड़कों पर चलते और वाहन चलाते नजर आ रहे हैं.एक वीडियो में कुपवाड़ा जिले के लोग कथित तौर पर कह रहे हैं कि वे सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के फैसले से खुश हैं और इससे राजनीतिक भ्रष्टाचार रुकेगा. साथ ही इलाके में शांति भी है. हालांकि पूंछ में पत्थरबाजी की एक घटना में एक पुलिस अफसर को मामूली चोटें आई हैं. एनएसए डोभाल ने यह भी आदेश दिया कि जम्मू-कश्मीर के लोगों को जरूरत की चीजों में कोई कमी नहीं आनी चाहिए. इसमें इमरजेंसी सर्विसेज के अलावा खाना भी है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें