scorecardresearch
 

JK के लिए अजीत डोभाल की भूमिका अहम, सरकार और स्थानीय लोगों के बीच बने सेतु

केंद्र सरकार ने कहा कि घाटी में कुछ स्थानों पर रूटीन की तरह होने वाले छोटे-मोटे मामूली प्रदर्शन हुए, लेकिन 10,000 से ज्यादा लोगों ने शांतिपूर्ण वातावरण में नमाज अदा की. इस बीच डोभाल ने स्थानीय लोगों से बातचीत की और उन्हें ईद की शुभकामनाएं भी दीं.

कश्मीरी लोगों से मुलाकात करते एनएसए अजीत डोभाल (फाइल फोटो-IANS) कश्मीरी लोगों से मुलाकात करते एनएसए अजीत डोभाल (फाइल फोटो-IANS)

नई व्यवस्था के बाद जम्मू-कश्मीर के भविष्य को लेकर मौजूद सवालों के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल घाटी में स्थिति को सहज बनाने और 'माइक्रो मैनेजमेंट' करने के लिए डेरा डाले हुए हैं और स्थानीय निवासियों तथा केंद्र सरकार के बीच सेतु बने हुए हैं.

घाटी में प्रतिबंधों के बीच अजीत डोभाल ने सोमवार को पूरे श्रीनगर की रेकी की. इसमें डाउन टाउन, सौरा, पंपोर, लाल चौक, हजरतबल, बडगाम (चरार-ए-शरीफ क्षेत्र) शामिल रहे. इसके साथ ही दक्षिण कश्मीर का पुलवामा और अवंतीपोरा क्षेत्रों का भी हाल जाना. केंद्रीय गृह मंत्रालय, जम्मू-कश्मीर पुलिस के अनुसार, ईद शांतिपूर्ण ढंग से मनाई गई.

सरकार की ओर से साझा की गई तस्वीरों और वीडियो से दिखता है कि ईद का जश्न जम्मू-कश्मीर में मनाया जा रहा है, जो 5 अगस्त से प्रतिबंधों के अधीन है. सरकार ने 5 अगस्त से निषेधाज्ञा लागू कर रखी है जब संसद में भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को निष्प्रभावी बना दिया गया था.

मामूली प्रदर्शन

केंद्र सरकार ने कहा कि घाटी के कुछ स्थानों पर रूटीन की तरह होने वाले छोटे-मोटे मामूली प्रदर्शन हुए, लेकिन 10,000 से ज्यादा लोगों ने शांतिपूर्ण वातावरण में नमाज अदा की. डोभाल ने स्थानीय लोगों से बातचीत की और उन्हें ईद की शुभकामनाएं भी दीं.

सरकार की तरफ से एक बयान में कहा गया कि 'छोटे स्तर की पथराव की कुछ घटनाएं' हुई हैं जिसे पुलिस ने जल्द संभाल लिया और प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर कर दिया. क्षेत्र में प्रतिबंधों के बाद से डोभाल स्थानीय निवासियों, जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ और सेना से लगातार संवाद कर रहे हैं.

अजीत डोभाल ने शनिवार को दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद प्रभावित अनंतनाग जिले में लोगों से मुलाकात की. गृह मंत्री अमित शाह के बीते सोमवार अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी किए जाने के महज घंटे भर बाद डोभाल श्रीनगर पहुंच गए थे. ऐसा माना जा रहा है कि अजीत डोभाल घाटी में कुछ और दिन रहेंगे. डोभाल पहले ऐसे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) हैं, जिन्हें कैबिनेट रैंक हासिल है.

शोपियां भी गए डोभाल

घाटी में अजीत डोभाल वहां के कई इलाकों का दौरा कर रहे हैं. इसमें दक्षिण कश्मीर का शोपियां भी शामिल है. यह स्थानीय आतंकवादियों का बड़ा केंद्र है.

सुरक्षा प्रतिष्ठान के सूत्रों का कहना है कि अजीत डोभाल, सुरक्षा अधिकारियों द्वारा जुटाए गए इनपुट के बजाय निजी तौर पर मैदान में उतर कर जायजा लेना चाहते थे.

डोभाल की कश्मीर यात्रा एक सोशल मीडिया सनसनी बन गई जब दक्षिण कश्मीर की सड़कों पर बुधवार को लोगों के साथ भोजन करते हुए उनका वीडियो और तस्वीरें वायरल हो गई थी.

शांतिपूर्ण तरीके से मनी ईद

कश्मीरियों के साथ बिरयानी की दावत के अलावा डोभाल वीडियो में जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ और सेना के साथ चर्चा करते हुए दिख रहे हैं. यह तीनों बल नए बनाए गए केंद्र शासित प्रदेश की सुरक्षा संभाल रहे हैं. यह नई व्यवस्था 31 अक्टूबर से प्रभावी होगा.

सरकार ने कहा कि एनएसए ने सोमवार से फिर अपना दौरा शुरू किया, जब विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने सड़क पर निकलकर अपना त्योहार शांतिपूर्ण तरीके से मनाया. निवासियों ने मस्जिद जाते समय किसी तरह की असुविधा का सामना नहीं किया. श्रीनगर की बड़ी मस्जिदों में ईद की नमाज की अनुमति नहीं दी गई.

लोग नमाज अदा करते देखे गए और उन्होंने ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों को भी बधाई दी. केंद्रीय गृह मंत्रालय की प्रवक्ता वसुधा गुप्ता ने नमाज अदा करने के बाद मिठाई बांटते हुए लोगों की एक तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया, 'अनंतनाग, बारामूला, बडगाम, बांदीपोर की सभी स्थानीय मस्जिदों में शांतिपूर्ण तरीके से ईद की नमाज अदा की गई, बिना किसी अप्रिय घटना के. बारामूला में पुराने कस्बे में जामिया मस्जिद में लगभग 10,000 लोगों ने नमाज अदा की.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें