scorecardresearch
 

मेजर अपमान मामला: शहीद औरंगजेब के पिता बोले- कश्मीर को मिनी पाकिस्तान बनाना चाहती थीं महबूबा

जम्मू और कश्मीर की पुर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने तौसीब नाम के युवक की पिटाई के मामले में भारतीय सेना के अधिकारी मेजर रोहित शुक्ला पर गंभीर आरोप लगाए. महबूबा के इस बयान की राज्यपाल और शहीद राइफलमैन औरंगजेब के पिता ने निंदा की.

जम्मू और कश्मीर की पुर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो- PTI) जम्मू और कश्मीर की पुर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो- PTI)

जम्मू और कश्मीर की पुर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती फिर विवादों में है. इस बार उन्होंने भारतीय सेना के अधिकारी और शौर्य चक्र विजेता मेजर रोहित शुक्ला के बारे में एक अखबार से बात करते हुए कहा कि मैंने मेजर शुक्ला की बहादुरी के बारे में सुना है, लेकिन यह बहादुरी नहीं है जब आप अपने शिविर में बच्चों को बुलाते हैं और उन्हें बेरहमी से पीटते हैं. महबूबा के इस बयान के बाद घाटी का सियासी पारा बढ़ गया. राज्य के राज्यपाल समेत शहीद राइफलमैन औरंगजेब के पिता ने भी महबूबा के बयान की निंदा की.

दरअसल, पिछले साल आतंकी समीर टाइगर को ढेर करने वाले मेजर रोहित शुक्ला, शहीद राइफलमैन औरंगजेब की निर्मम हत्या के सिलसिले में तौसीब नाम के एक युवक से पूछताछ की थी. इस पूछताछ के बाद मेजर शुक्ला पर तौसीब को बेरहमी से पीटने का आरोप लगा.

कोर कमांडर तक मामला ले जाऊंगी

पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा कि तौसीब को पहले शदीमर्ग सेना कैंप में बुलाया गया, फिर उससे पीटा गया और एनकाउंटर करने की धमकी दी गई. उन्होंने कहा कि मैं राज्यपाल और मुख्य कमांडर से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग कर रही हूं. मेजर शुक्ला इस घटना के लिए जवाबदेह हैं और मैं इस मामले को कोर कमांडर तक ले जाऊंगी. तौसीब का भाई भी सेना में है. यदि आप उनके परिवार के साथ ऐसा व्यवहार करते हैं, तो सामान्य (नागरिक) कश्मीरी का क्या होगा?

कश्मीर को मिनी पाकिस्तान बनाना चाहती थी महबूबा

वहीं, शहीद औरंगजेब के पिता और भाजपा सदस्य मोहम्मद हनीफ ने मेजर शुक्ला को निशाना बनाने के लिए महबूबा मुफ्ती पर हमला बोला. इंडिया टुडे से खास बातचीत करते हुए शहीद के पिता ने कहा कि महबूबा, कश्मीर को मिनी पाकिस्तान में बदलने की कोशिश कर रही थीं. शहीद के पिता मेजर शुक्ला की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने सही काम किया है. फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत जो लोग पाकिस्तान के साथ बातचीत की वकालत कर रहे हैं, उन्हें देश छोड़ देना चाहिए.

राज्यपाल बोले- उनको गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं

महबूबा के इस बयान पर राज्य के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि चुनाव का वक्त है, उनकी पार्टी टूट रही है, खराब हाल में है. वो इसी किस्म के सपोर्ट से ताकत में आई थीं. उनको गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है. हमारे सुरक्षा बलों का किसी महबूबा मुफ्ती जी के बयान से मनोबल नहीं गिरने दिया जाएगा.

महबूबा के बयान को उमर का समर्थन

महबूबा मुफ्ती के बयान का समर्थन करते हुए उमर अब्दुल्ला ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक निशाना साधा. उन्होंने कहा कि राज्यपाल का बयान अस्वीकार्य है और राजनीति में एक अनावश्यक हस्तक्षेप है. ऐसा बयान देने से पहले उन्हें सोचना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें