scorecardresearch
 

धारा 370 के विरोध में थी कांग्रेस, सरदार पटेल ने जोड़ा इसे संविधान में...8 सबूत

अक्सर कश्मीर का नाम आते ही यह ध्यान में आता है कि वहां के सारे काम पंडित जवाहरलाल नेहरू ने किए. लेकिन कम ही लोग इस तथ्य पर ध्यान दे पाते हैं कि भारतीय संविधान में धारा 370 जोड़ने का बड़ा काम सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया.

कांग्रेस ने धारा 370 का जमकर विरोध किया था कांग्रेस ने धारा 370 का जमकर विरोध किया था

कश्मीर का मसला एक बार फिर उस स्तर तक पहुंच गया है, जब खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हालात पर नजर रखनी पड़ रही है. यहां सबको ध्यान होगा कि उनकी पार्टी जनसंघ के जमाने से कश्मीर में धारा 370 का विरोध करती आ रही है, हालांकि इस समय जम्मू-कश्मीर की सरकार में शामिल होने के बाद पार्टी खामोश है.

अक्सर कश्मीर का नाम आते ही यह ध्यान में आता है कि वहां के सारे काम पंडित जवाहरलाल नेहरू ने किए. लेकिन कम ही लोग इस तथ्य पर ध्यान दे पाते हैं कि भारतीय संविधान में धारा 370 जोड़ने का बड़ा काम सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया. उस समय पूरी कांग्रेस पार्टी कश्मीर को विशेष दर्जा देने के सख्त खिलाफ थी, लेकिन जब पंडित नेहरू अमेरिका में थे, तब पटेल ने पार्टी को कश्मीर के हालात समझाए और संविधान सभा में धारा 370 को स्वीकृत कराया. नेहरू ने पटेल की मृत्यु के बाद भी हमेशा उन्हें काम का श्रेय दिया. पटेल के मिशन धारा 370 का पूरा वर्णन उनके निजी सचिव और पटेल के पत्रों के संकलन के संपादक वी शंकर ने दिया है, इसके अलावा मुक्यमंत्रियों के लिखे पत्र में नेहरू भी इसका जिक्र करते हैं.

वी. शंकर के मुताबिक -

1. जम्मू-कश्मीर के संबंध में सरदार की एक उल्लेखनीय सिद्धि यह थी कि उन्होंने भारत के संविधान में अनुच्छेद-370 जुड़वाया, जो भारत के साथ काश्मीर राज्य के संबंधों की व्याख्या करता है.

2. इस सारे कार्य का संचालन गोपालस्वामी अय्यंगर ने शेख अब्दुल्ला और उनके मंत्रिमंडल के साथ सलाह-मशविरा करके पंडित नेहरू के समर्थन से किया. नेहरू उस समय अमेरिका में थे.

3. कांग्रेस पार्टी ने संविधान सभा में इस मसौदे का जोरदार, बल्कि हिंसक ढंग से विरोध भी किया क्योंकि यह अनुच्छेद कश्मीर राज्य को एक विशेष दर्जा प्राप्त करता था.

4. सिद्धांत की दृष्टि से कांग्रेस पार्टी की यह राय थी कि कश्मीर को उन्हीं मूलभूत व्यवस्थाओं अर्थात शर्तों के आधार पर संविधान को स्वीकार करना चाहिए, जिन शर्तों पर और राज्यों ने उसे स्वीकार किया.

5. सरदार नहीं चाहते थे कि नेहरू की अनुपस्थिति में ऐसा कुछ हो जिससे नेहरू को नीचा देखना पड़े. इसलिए नेहरू की अनुपस्थिति में सरदार ने कांग्रेस पार्टी को अपना रवैया बदलने के लिए समझाने का कार्य हाथ में लिया.

6. यह कार्य उन्होंने इतनी सफलता से किया कि संविधान-सभा में इस अनुच्छेद की बहुत चर्चा नहीं हुई और न इसका विरोध हुआ.

7. धारा 370 को संविधान में जुड़वाने के बाद सरदार ने नेहरू को 3 नवंबर 1949 को पत्र लिखकर इसके बारे में सूचित किया- ‘काफी लंबी चर्चा के बाद में पार्टी (कांग्रेस) को सारे परिवर्तन स्वीकार करने के लिए समझा सका.’

8. नेहरूजी ने हमेशा इस कार्य के लिए सरदार पटेल को उचित श्रेय दिया. सरदार पटेल की मृत्यु के बाद जब श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने धारा 370 खत्म कराने के लिए आंदोलन छेड़ा, तब 25 जुलाई 1952 को मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र में नेहरू जी ने पटेल के कार्य की याद दिलाई, ‘यह मामला 1949 में हमारे सामने तब आया था जब भारत के संविधान को अंतिम रूप दिया जा रहा था. सरदार पटेल तब इस मामले को अपने हाथ में लिया, उन्होंने हमारे संविधान में जम्मू और कश्मीर राज्य को विशेष, लेकिन ट्रांजिशनल दर्जा दिया. यह संविधान में धारा 370 के रूप में शामिल है.’

कश्मीर मुद्दे पर एकदम से आक्रामक रुख अपनाते समय कई लोग अक्सर यह भूल जाते हैं कि वे सरदार से बड़े राष्ट्रवादी नहीं हो सकते. अगर सरदार ने कश्मीर को खास दर्जा खुद अपने हाथों से दिया तो जरूर उस समय के हालात ऐसे रहे होंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें