scorecardresearch
 

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के साथ मददगारों पर भी प्रहार, जैश से जुड़े दो लोग गिरफ्तार

जानकारी के मुताबिक ये लोग आतंकियों के रहने-खाने के अलावा हथियारों की ट्रांसपोर्टिंग और संवेदनशील जानकारी पहुंचाने का काम करते थे. गिरफ्तार किए गए दोनों आतंकियों के नाम बिलाल अहमद चोपान और मुर्शलीन बशीर शेख बताया गया है.  

जम्मू-कश्मीर पुलिस को बड़ी कामयाबी (फाइल फोटो) जम्मू-कश्मीर पुलिस को बड़ी कामयाबी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अवंतीपोरा में पुलिस को बड़ी कामयाबी
  • दो आतंकियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • जैश के आतंकियों को पहुंचाते थे मदद

जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. पुलिस ने त्राल और पंपोर इलाके से जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इन दोनों पर आतंकियों के लिए खाना-आवास और अन्य मदद देने का आरोप हैं. जानकारी के मुताबिक ये लोग उनके रहने-खाने के अलावा हथियारों की ट्रांसपोर्टिंग भी करते थे. इसके अलावा आतंकियों तक खुफिया और संवेदनशील जानकारी पहुंचाते थे. गिरफ्तार किए गए दोनों आतंकियों के नाम बिलाल अहमद चोपान और मुर्शलीन बशीर शेख बताया गया है.  

बिलाल अहमद चोपान त्राल के वगाद इलाके का रहने वाला है, जबकि मुर्शलीन बशीर शेख पंपोर के चटलाम इलाके का रहने वाला है. इन दोनों के पास से ऐसे कई सामान मिले हैं जो आतंकियों के साथ उनकी साठगांठ को बताता है. पुलिस के मुताबिक दोनों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है.

जाहिर है इन दिनों जम्मू-कश्मीर में सरकार बेहद चौकन्नी होकर काम कर रही है. पाकिस्तान की तरफ से लगातार आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की कोशिश की जा रही है. जम्मू और कश्मीर से 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. वो कश्मीर में अशांति फैलाने की कोशिश में है. तब से पाकिस्तान आतंकवादियों के जरिए नेताओं और नागरिकों जैसे सॉफ्ट टारगेट पर हमला करा रहा है.

इनपुट्स से संकेत मिलते हैं कि जम्मू और कश्मीर में होने वाले जिला विकास परिषदों (डीडीसी) के चुनाव ने भी आतंकवादियों और पाकिस्तान को परेशान किया हुआ है. चुनावों से पहले ही नामांकन और जनता की भागीदारी बड़े पैमाने पर देखी गई. 

देखें: आजतक LIVE TV

नगरोटा एनकाउंटर को लेकर बड़ा खुलासा

वहीं जम्मू के नगरोटा में गुरुवार को हुए एनकाउंटर को लेकर अहम खुलासा हुआ है. मुठभेड़ में ढेर हुए आतंकियों के पास से जो चीजें बरामद हुई हैं उसने पाकिस्तान की पोल खोल दी है. यही नहीं, आतंकी पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से लगातार संपर्क में भी थे. आतंकियों के पास से पाकिस्तान की एक कंपनी का डिजिटल मोबाइल रेडियो (DMR) बरामद हुआ है. 

पाकिस्तान में बैठे आकाओं से आतंकियों की क्या बात हो रही थी, ये उस मोबाइल के मैसेज में मिला.  DMR पर आतंकियों को मैसेज किया गया कि कहां पहुंचे. क्या माहौल है. कोई मुश्किल तो नहीं है. एजेंसी को शक है कि ये मैसेज पाकिस्तान के शकरदढ़ से भेजा गया.  

सूत्रों का कहना है कि आतंकी गुरुवार-शुक्रवार को अमावस्या की रात सांबा सेक्टर के पास नाले को पार करके दाखिल हुए. आतंकियों ने अंधेरे का फायदा उठाते हुए सीमा को पार किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें