scorecardresearch
 

मोदी के मंत्री बोले- J-K विधानसभा भंग करना लोगों के हित में

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और गिरिराज सिंह ने कहा है कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक का विधानसभा भंग करने का फैसला जम्मू-कश्मीर के लोगों के हित में है. यह फैसला जम्मू-कश्मीर और देशहित में भी लिया गया फैसला है. साथ ही राज्यपाल का निर्णय संविधान के तहत बिल्कुल उचित है.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (फोटो- aajtak.in) केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (फोटो- aajtak.in)

जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग किए जाने पर विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे सवालों पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने तीखा हमला बोला है. केंद्रीय मंत्री और भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा भंग करने का विरोध करने वाले लोग पाकिस्तान की तरफदारी कर रहे हैं.

गिरिराज ने कहा मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेता पाकिस्तानी आतंकवादी और पाकिस्तान की तरफदारी लगातार करते रहे हैं. विधानसभा भंग करने के कदम का बचाव करते हुए गिरिराज और नकवी ने कहा कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधानसभा भंग करने का जो फैसला लिया, वो एकदम सही है.  उन्होंने यह फैसला अपने विवेक से किया, जो संवैधानिक तौर पर एकदम सही है. यह लोकतांत्रिक ढंग से लिया गया फैसला है.

केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि विधानसभा भंग करने का फैसला जम्मू-कश्मीर के लोगों के हित में है. बीजेपी पर मनमानी के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री  मुख्तार अब्बास नकवी ने सवाल दागा कि विधानसभा भंग करने पर आज वो लोग सवाल क्यों उठा रहे हैं, जो अभी तक कह रहे थे कि ऐसे हालात में राज्य विधानसभा भंग होनी चाहिए क्योंकि जम्मू-कश्मीर मुश्किलों का सामना कर रहा है.

नकवी ने कहा कि जो लोग सवाल उठा रहे हैं, वो रातोंरात गले मिले. उनकी एकजुटता कई तरह के सवाल खड़े करती है और कई सवालों के जवाब भी देती है. नकवी का कहना है, ‘कौन क्या दे रहा है, इस पर मैं कुछ कहना नहीं चाहता हूं.’ जब केंद्रीय मंत्री नकवी से जम्मू कश्मीर में जल्द चुनाव कराने की अटकलों के बारे में पूछा गया, तो वो इस सवाल को टाल गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें