scorecardresearch
 

जम्मू-कश्मीर में विकास के रोडमैप की तैयारी के बीच टला इंवेस्टर्स समिट

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार इन्वेस्टर समिट का आयोजन अक्टूबर में किया जाने वाला था. हालांकि अब इसे स्थगित कर दिया गया है.

पीएम मोदी और अमित शाह (फाइल फोटो) पीएम मोदी और अमित शाह (फाइल फोटो)

  • अक्टूबर में होने वाले इन्वेस्टर समिट का आयोजन टला
  • 12-14 अक्टूबर को होना था इन्वेस्टर समिट
  • अब नवंबर में किया जा सकता है समिट का आयोजन

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार इन्वेस्टर समिट का आयोजन अक्टूबर में किया जाने वाला था. हालांकि अब इसे स्थगित कर दिया गया है. सूत्रों के मुताबिक अब नवंबर में जम्मू-कश्मीर में इन्वेस्टर समिट का आयोजन किया जा सकता है.

सूत्रों का कहना है कि पहले 12-14 अक्टूबर को ये समिट होना था, लेकिन माहौल अनुकूल नहीं है. जिसके कारण इसे स्थगित कर दिया गया. इससे पहले जम्मू-कश्मीर के प्रधान सचिव (कॉमर्स एंड इंडस्ट्री) एन के चौधरी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अक्टूबर 12 से 14 के बीच ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट आयोजित करने का फैसला लिया.

श्रीनगर में 12 अक्टूबर को इस कार्यक्रम की शुरुआत होनी थी. बताया जा रहा था कि इस कार्यक्रम में 2000 से ज्यादा निवेशकों को न्योता दिया जाएगा. इससे जुड़ा सम्मान समारोह 14 अक्टूबर को जम्मू में आयोजित होना था.

बता दें कि जम्मू और कश्मीर से धारा 370 हटाने जाने के बाद से सरकार घाटी के हालात पर नजर बनाई हुई है. कश्मीर में धीरे-धीरे अब हालात भी सामान्य हो रहे हैं. स्कूल खोल दिए गए हैं, हालांकि छात्र अभी ज्यादा संख्या में स्कूल नहीं पहुंच रहे हैं. वहीं इंटरनेट पर अभी भी रोक लगी हुई है.

उधर सरकार कश्मीर को लेकर विशेष पैकेज का ऐलान भी कर सकती है. बुधवार को होनी वाली कैबिनेट की बैठक में सरकार घाटी को विशेष पैकेज दे सकती है. सरकार कश्मीर में आवश्यक बुनियादी ढांचा खड़ा करने के लिए करोड़ों रुपये के पैकेज का ऐलान कर सकती है. सूत्र के मुताबिक केंद्र सरकार जम्मू और कश्मीर के लिए एक विशेष पैकेज पर काम कर रही है, जिसमें करोड़ों रुपये का निवेश शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें