scorecardresearch
 

J&K: अनंतनाग में एक आतंकवादी मार गिराया गया, सेना के तीन जवान समेत चार जख्मी

कश्मीर में आतंकी हमलों को लेकर डर का माहौल बनता जा रहा है. आतंकी आम लोगों को खासकर अल्पसंख्यक हिंदुओं को अपना टारगेट बना रहे हैं. आलम यह हो गया है कि जिस तरह 1990 में हमारा पलायन हुआ था. अब सभी उस तरह ही कश्मीरी पंडित पलायन कर रहे हैं.

X
अनंतनाग में तीन आतंकियों के छुपे होने की है सूचना अनंतनाग में तीन आतंकियों के छुपे होने की है सूचना
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बढ़ती आतंकी घटनाओं के कारण हो रहा पलायन
  • कश्मीर के हालात में 15 दिन में दूसरी बार हुई बैठक

जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां लगातार बढ़ी जा रही हैं. दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग के ऋषिपोरा में शुक्रवार शाम को मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को मार गिराया. वहीं आतंकियों की फायरिंग में सेना के 3 जवान और 1 नागरिक घायल हो गए. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि सभी घायलों को इलाज के लिए श्रीनगर के 92 बेस अस्पताल में ले जाया गया, जहां सभी की हालत स्थिर है.

जानकारी के मुताबिक आतंकियों के इलाके में होने की सूचना मिलते ही सेना और पुलिस ने मिलकर सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया था. इस दौराने इलाके की नाकाबंदी भी कर आतंकियों को घेरना शुरू कर दिया था. सर्च ऑपरेशन के दौरान ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी थी. जवाबी फायरिंग में एक आतंकी मारा गया. बताया जा रहा है कि इलाके में अब भी दो आतंकी छुपे हुए हैं.

कश्मीर में खौफ का माहौल... 26 दिन में आतंकियों की गोली के शिकार बने 10 परिवारों की कहानी


आईजीपी कश्मीर ने बताया कि मुठभेड़ में प्रतिबंधित संगठन का आतंकवादी कमांडर एचएम निसार खांडे मारा गया है. उसके कब्जे से आपत्तिजनक सामग्री, हथियार और गोला-बारूद समेत एक एके 47 राइफल बरामद की गई है. मौके पर ऑपरेशन जारी है.

2 जून को प्रवासी मजदूरों पर किया था हमला

बडगाम में गुरुवार को ईंट भट्ठे में काम करने वाले प्रवासी मजदूरों पर हमला किया था, जिसमें 1 मजदूर की मौत हो गई थी, जबकि एक मजदूर बुरी तरह से घायल हो गया था. हमले में जान गंवाने वाले मजदूर का नाम दिलखुश है. वह बिहार का रहने वाला था. वहीं दूसरे मजदूर का नाम राजन है, वह पंजाब का रहने वाला है. 

कश्मीरी पंडित हमें छोड़कर न जाएं: मुफ्ती

कश्मीर में कश्मीरी पंडितों और टारगेट किलिंग की मुफ्ती नसीर-उल-इस्लाम ने निंदा की. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं शर्मिंदा करने वाली और दुखद हैं.उन्होंने कश्मीरी पंडितों से अपील भी की है कि वे घाटी छोड़कर न जाएं. उन्होंने कहा, "हर हत्या दुखद है और जघन्य अपराध है. मुझे ऐसी हत्याओं से दर्द होता है. मैं चाहता हूं कि लोग समझें कि भाईचारा कितना जरूरी है. हमें ऐसी उपद्रवी तत्वों को हालात बिगाड़ने की अनुमति नहीं देनी चाहिए."

कश्मीर के हालात पर बुलाई गई बैठक में पहुंचे मनोज सिन्हा

अमित शाह ने मनोज सिन्हा के साथ की बैठक

गृहमंत्री अमित शाह ने आज उप राज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ हाई-लेवल मीटिंग की. दोपहर में हुई इस बैठक में भी NSA डोभाल भी मौजूद रहे. इसके अलावा मीटिंग में जम्मू-कश्मीर के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (Director General of Police) दिलबाग सिंह, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के महानिदेशक कुलदीप सिंह और सीमा सुरक्षा बल के प्रमुख पंकज सिंह भी मौजूद रहे. जम्मू कश्मीर के हालात को लेकर पिछले 15 दिनों के अंदर ये दूसरी बैठक थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें