scorecardresearch
 

हरियाणा, हिमाचल और चंडीगढ़ में कोरोना वायरस के चार संदिग्ध केस

चंडीगढ़ मे कुछ युवकों को पीजीआई में भर्ती कराया गया है. ये युवक थाइलैंड और बाली से लौटे थे. हरियाणा के सिरसा में भी एक संदिग्ध केस सामने आया है. हरियाणा, हिमाचल और पंजाब में जांच की सुविधा मौजूद नहीं, इसलिए सैंपल दिल्ली भेजे गए हैं.

कोरोना वायरस: चंडीगढ़ में अब तक 31 लोगों को उपचार दिया गया है (फाइल फोटो-ANI) कोरोना वायरस: चंडीगढ़ में अब तक 31 लोगों को उपचार दिया गया है (फाइल फोटो-ANI)

  • सिरसा, बिलासपुर में भी दो संदिग्धों की पहचान
  • चंडीगढ़ में कोरोनावायरस को लेकर पूरी तैयारी
  • 3 मेडिकल कॉलेजों में आइसोलेशन वार्ड तैयार

चंडीगढ़ ,सिरसा और बिलासपुर में पिछले 48 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के चार संदिग्ध मामले सामने आए हैं. चंडीगढ़ में थाइलैंड और बाली से वापस लौटे 26 और 29 साल के युवकों को पीजीआई में भर्ती कराया गया है. इसके अलावा हिमाचल के बिलासपुर में भी 32 साल के एक व्यक्ति में कोरोना वायरस सरीखे लक्षण पाए गए हैं. यह व्यक्ति 29 फरवरी को दक्षिण कोरिया से वापस लौटा था.

इसके अलावा हरियाणा के सिरसा में भी 41 साल के एक व्यक्ति ने गले में खराश और बुखार की शिकायत की थी. वह हाल में रोम से सिरसा वापस लौटा है. बिलासपुर के पीड़ित को शिमला के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज अस्पताल और सिरसा के संदिग्ध को वहां के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

ये भी पढ़ें: इराक पहुंचा मौत का वायरस, कोरोना से गई पहली जान, 31 लोग चपेट में

चंडीगढ़ में अब तक 31 लोगों को उपचार दिया गया है. स्थानीय प्रशासन ने चंडीगढ़ के तीन मेडिकल कॉलेजों जिसमें पीजीआई चंडीगढ़ शामिल है, में आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की है. प्रशासन ने ट्रैफिक पुलिस में तैनात कर्मचारियों को मास्क पहनने की हिदायत दी है.

उधर प्रशासन ने अस्पतालों में कार्यरत अधिकारियों और कर्मचारियों को भी सतर्क रहने की हिदायत दी है. होटल मालिकों को अपने यहां ठहरने वाले विदेशी ग्राहकों की सूची देने को कहा है. अब तक 6 विदेशी नागरिकों को उपचार (क्वैरनटीन) दिया गया है और 17 का जारी है.

जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और पंजाब जैसे राज्यों से आने वाले मरीजों को सेवाएं दे रहे पीजीआई चंडीगढ़ में फिलहाल कोरोना वायरस की जांच की सुविधा मौजूद नहीं है. यहां आने वाले मरीजों के नमूने दिल्ली या फिर पुणे भेजे जा रहे हैं.

टोटकों से दूर रहने की सलाह

पीजीआई चंडीगढ़ के कम्युनिटी मेडिसिन के प्रोफेसर जेएस ठाकुर ने लोगों को कोरोना वायरस के इलाज को लेकर सोशल मीडिया में चल रहे टोटकों से दूर रहने की सलाह दी है. उन्होंने कहा कि लोगों को भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से परहेज करना चाहिए और इसके अलावा घर पहुंचने पर अपने हाथ साबुन या फिर सैनिटाइजर से साफ करने चाहिए.

उधर पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश में अब तक 214 संदिग्ध कोरोना वायरस के लक्षण वाले लोगों की पहचान की गई है जिनमें 181 लोगों को उपचार दिया गया है. 15 संदिग्ध लोगों का उपचार अभी भी जारी है. बाकी के 18 लोग, जिनमें कुछ चीनी नागरिक भी शामिल थे, वापस अपने देश लौट चुके हैं.

ये भी पढ़ें: कोरोना से सहमा बॉलीवुड: ऋतिक ने पहने ग्लव्स, प्रभास ने पहना मास्क

महंगे हुए मास्क, सैनिटाइजर

हरियाणा में अब तक उन 943 लोगों पर नजर रखी जा रही है जो चीन और दूसरे देशों से वापस देश में लौटे हैं. इनमें से 15 लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया था लेकिन इनमें से एक भी संदिग्ध पॉजिटिव नहीं पाया गया. ताजा मामला राज्य के सिरसा में सामने आया है जहां 41 साल का एक व्यक्ति हाल ही में रोम से लौटा और उसने अपने गले में खराश की शिकायत की. उसके बाद उसे सिरसा के सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया. कोरोना वायरस के संक्रमण का डर फैलने के बाद मेडिकल स्टोर्स में लोग मास्क और सैनिटाइजर खरीदते नजर आए. इन चीजों की मांग बढ़ते देखकर अचानक मास्क की कीमत ₹10 से बढ़कर ₹25 और सैनिटाइजर की भी मनमांगी कीमत वसूली जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें