scorecardresearch
 

लॉकडाउन नहीं है कारगर उपाय, पैनिक बढ़ता है, CM सम्मेलन में बोले मनोहर लाल खट्टर

दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही हरियाणा में भी बढ़ते केस पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह चिंता का विषय है. दिल्ली से लगे हरियाणा के बॉर्डर बंद करने के सवाल पर सीएम खट्टर ने कहा कि ऐसे कई कदम हैं जो पू्र्व में कारगर साबित हुए हैं. लेकिन सीमा बंद करना इसका हल नहीं है.

हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर (फाइल फोटो) हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आजतक के सीएम सम्मेलन में शामिल हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर
  • 'लॉकडाउन लगाने पर विचार नहीं कर रही राज्य सरकार'

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रह हैं. ऐसे में हरियाणा में भी प्रत्येक दिन बीते दिन से अधिक मामले सामने आ रहे हैं. ऐसे में राज्य में कोरोना की स्थिति और वैक्सीनेशन को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने रविवार को आजतक के सीएम सम्मलेन में हिस्सा लिया और राज्य की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की. वैक्सीन पर चल रहे विवाद को लेकर खट्टर ने कहा कि हमारे राज्य में वैक्सीन को लेकर कोई समस्या नहीं है. 

सीएम खट्टर ने कहा कि इस बार कोरोना की लहर घातक है, लेकिन इस स्थिति से निपटने के लिए हरियाणा राज्य पूरी तरह से तैयार है. उन्होंने लॉकडाउन पर बात करते हुए कहा कि लॉकडाउन लगाना कोई भी उपाय नहीं है. इससे लोग और भी ज्यादा पैनिक हो जाते हैं. वहीं लॉकडाउन की वजह से आर्थिक व्यवस्था भी बिगड़ जाती है. वहीं खट्टर ने कहा कि जहां तक नाइट कर्फ्यू यानी कोरोना कर्फ्यू का सवाल है तो इस पर आज हम लोग फैसला करेंगे. जो बड़े शहर हैं वहां हम कोरोना कर्फ्यू लागू कराएंगे. 

सीएम ने कहा कि हम अपने राज्य में मेडिकल व्यवस्था पर पूरा ध्यान दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त मात्रा में बेड और वेंटिलेटर हैं. उन्होंने कहा हमने कोरोना गाइडलाइन को पालन कराने में ज्यादा ध्यान दिया है. वहीं टीका उत्सव पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे राज्य ने चार दिनों में 5 लाख वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा है. उन्होंने कहा कि वैक्सीन की कोई कमी नहीं है. हम पूरी तेजी के साथ अपने लक्ष्य को हासिल करने में जुटे हैं. वहीं कोरोना के दौरान परीक्षाओं को लेकर सीएम ने कहा कि परीक्षाएं कराई जाएंगी. ऐसे में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि किसी भी तरह से कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन ना हो. 

दिल्ली और देश के अन्य कई राज्यों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू जैसे कदम उठाए गए हैं. क्या हरियाणा में भी ऐसे कदम उठाए जाने चाहिए के सवाल पर सीएम खट्टर ने कहा कि सामान्य कदम जो पहले उठाए गए थे उन्हें फिर से लागू किया गया है जैसे मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन, गेदरिंग पर रोक लगाई गई है. इंडोर गेदरिंग 50 फीसदी कर दी गई है और आउटडोर गेदरिंग में भी 500 से ज्यादा कि गेदरिंग नहीं होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि अंतिम संस्कार में लोगों के जाने की लिमिट 20 लोगों की रखी गई है. ये सारे एहतियात उठाए गए हैं. जहां तक लॉकडाउन की बात है तो पिछले साल ये लागू किया गया था. इसमें देखा गया कि पैनिक ज्यादा क्रिएट होता है और समाधान ज्यादा नहीं निकला. हमारा सारा आर्थिक चक्र रुक गया. इस सबके बावजूद हम कोरोना को ज्यादा रोक नहीं पाए थे. 

दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही हरियाणा में भी कोरोना के बढ़ते मामले पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह चिंता का विषय है. दिल्ली से लगे हरियाणा के बॉर्डर बंद करने के सवाल पर सीएम खट्टर ने कहा कि ऐसे कई कदम हैं जो पू्र्व में कारगर साबित हुई हैं. लेकिन सीमा बंद करना इसका हल नहीं है. बॉर्डर बंद होने के बाद भी बहुत से लोगों का एक राज्य से दूसरे राज्य में आना जाना लगा रहता है. इसलिए यह उतना कारगर नहीं है. इससे सिर्फ पैनिक बढ़ता है. इसलिए हम और एहतियात बरत रहे हैं.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें