scorecardresearch
 

गुजरातः कोरोना का हॉटस्पॉट बना सूरत, अस्पताल ने किया मरीजों को भर्ती करने से इनकार

सूरत में संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है. सूरत में कोरोना की वजह से स्थिति इतनी खराब हो गई है कि ज्यादातर अस्पताल फुल हो गए हैं. जिसकी वजह से अब अस्पताल गंभीर कोरोना रोगियों को भर्ती करने से इनकार कर रहे हैं.

कोरोना का हॉटस्पॉट बना सूरत- सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई) कोरोना का हॉटस्पॉट बना सूरत- सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिना किसी काम के बाहर ना निकलें लोगः CM रुपाणी
  • राज्य सरकार ने 3 लाख रेमडेवसीर इन्जेक्शन के ऑर्डर दिए
  • गुजरात में 3,280 नए मामले दर्ज, 17 मरीजों की मौत

गुजरात में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के मामलों की संख्या हर दिन नए रिकॉर्ड बना रही है. कोरोना के बढ़ते आतंक पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार लगातार सख्त कदम उठा रही है. बावजूद इसके दैनिक मामलों में कमी दर्ज नहीं की जा रही है.

सूरत में संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है. सूरत में कोरोना की वजह से स्थिति इतनी खराब हो गई है कि ज्यादातर अस्पताल फुल हो गए हैं. जिसकी वजह से अब अस्पताल गंभीर कोरोना रोगियों को भर्ती करने से इनकार कर रहे हैं.

इस बीच आज मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल और राज्य के सभी आला आरोग्य विभाग के अधिकारियों ने सूरत में एक इमरजेंसी बैठक की. मुख्यमंत्री की अध्यक्षता वाली इस बैठक मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वो बिना मतलब और काम के बाहर ना निकलें.

इतना ही नहीं सूरत नगर निगम द्वारा चलाए जा रहे अस्पताल ने भी कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया है. ऐसे लोगों को अब मजबूरी में सिविल अस्पताल में जाना पड़ रहा है. जबकि सिविल अस्पताल में भी रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है.

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा कि कोरोना सिर्फ गुजरात में नहीं बल्कि पूरे देश में बढ़ रहा है. कोरोना पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार ने टीकाकरण अभियान को तेज कर दिया है. गुजरात के 4 महानगरों में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले पाए जा रहे हैं. सीएम रुपाणी ने कहा कि टीका और मास्क पहनने से कोरोना पर काबू पाया जा सकता है. मास्क पहनने वाले 98 फीसदी लोग कोरोना से बच रहे हैं.

गुजरात में 3,280 नए मामले दर्ज

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने इस मौके पर सूरत को 300 वेंटिलेटर देने की भी घोषणा की. उन्होंने कहा कि रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कमी नहीं होगी. मुख्यमंत्री ने तालाबंदी पर सार्वजनिक चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि चिंता न करें, सरकार की स्पष्ट नीति है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में किसी को नुकसान नहीं होगा.

राज्य में वीकंड कर्फ्यू या लॉकडाउन को लेकर विजय रुपाणी ने कहा कि इस संबंध में एक बैठक होगी जिसमें इसके बारे में सरकार की ओर से फैसला लिया जाएगा.

इस बीच गुजरात में मंगलवार को 3,280 नए मामले दर्ज हुए जबकि 17 मरीजों की मौत हुईं. अहमदाबाद में रिकॉर्ड 800 केस दर्ज हुए तो सूरत में 615, राजकोट में 321 और वडोदरा में 218 केस आए. फिलहाल राज्य में कुल 17,348 केस एक्टिव हैं.

राज्य में बिगड़ते हालात को देखते हुए 8 म्युनिसिपल कॉरपोरेशन और 20 शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है. अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, वडोदरा और गांधी नगर जैसे 8 निगमों और 20 शहरों में 30 अप्रैल तक रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. यही नहीं राज्य में 30 अप्रैल तक सभी बड़े कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें