scorecardresearch
 

PM मोदी ने कहा- संवेदनशीलता को पुलिस सिस्टम का अहम हिस्सा बनाएं

आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी संगठनों द्वारा युवकों में कट्टरता भरने के प्रयासों को लेकर चिंताओं के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि संवेदनशीलता पुलिस व्यवस्था का एक महत्वपूर्ण तत्व होना चाहिए. पीएम ने एक लचीली संस्थागत रूपरेखा’ की पुरजोर वकालत भी की जिसके तहत पुलिस स्थानीय लोगों के साथ संबंध स्थापित करेगी.

पीएम मोदी पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कच्छ के रण में पुलिस महानिदेशकों के तीन दिवसीय सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा, ‘संवेदनशीलता पुलिस प्रणाली का अहम तत्व होना चाहिए और एक लचीली संस्थागत रूपरेखा बनाई जानी चाहिए, जिससे पुलिस बल में नागरिकों के प्रति संवेदनशीलता पैदा करने में मदद मिल सकती है.’ प्रधानमंत्री ने देश के करीब 100 शीर्ष पुलिस अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि पुलिस के कामकाज में स्थानीय समुदायों को विश्वास में लेना चाहिए और अपराधों से निपटने में प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करना चाहिए.

'स्थानीय समुदायों के साथ संपर्क स्थापित करें पुलिस बल'
उन्होंने कहा, ‘पुलिस बलों को स्थानीय समुदायों के साथ संपर्क स्थापित करना चाहिए और इसका एक तरीका है कि समुदाय के लोगों की सफलता और उपलब्धियों का जश्न मनाना चाहिए.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि जब लोग अपनी उपलब्धियां मनाने थानों में आएंगे तो उनमें पुलिस अधिकारियों द्वारा किये गये कामकाज के लिए व्यापक समझ पैदा होगी और सम्मान विकसित होगा.

पीएम के टेंट पर खर्च हुए 31 लाख

ISIS की हुई चर्चा
आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और दिल्ली में पुलिस ने कुछ युवकों को कट्टरता के रास्ते से बाहर लाने के लिए उनके परिवारों और समुदाय के वरिष्ठ नागरिकों के साथ काम किया है. ये युवक कथित तौर पर पश्चिम एशिया में आतंक फैला रहे आईएसआईएस के प्रभाव में आ गये थे. मोदी ने अंतरराज्यीय सीमाओं पर पड़ोसी राज्यों के पुलिस बलों के बीच व्यापक संवाद की भी वकालत की.

साइबर सुरक्षा पर भी रखे विचार
प्रधानमंत्री ने साइबर सुरक्षा, डिजिटल तकनीक और सोशल मीडिया जैसे विषयों पर बात की और कहा कि पुलिस अधिकारियों को अपने कामकाज में उभरती प्रौद्योगिकियों का प्रभावी तरीके से इस्तेमाल करना चाहिए.’ तीन दिन के सम्मेलन में बातचीत की गुणवत्ता और गहनता पर प्रसन्नता जताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह पुलिस बल के समर्पण और पेशेवर क्षमता का संकेत है.

PM ने किया योग
उन्होंने सम्मेलन में तय हुई सिफारिशों को लागू करने के लिए स्पष्ट रोडमैप तैयार करने का पक्ष लिया. प्रधानमंत्री ने कहा कि चर्चा और जानकारी देने में देशभर से जूनियर और सीनियर दोनों तरह के अधिकारी शामिल रहे. उन्होंने पर्यटन पुलिस व्यवस्था, आपदा प्रबंधन और पुलिस प्रशिक्षण के विषयों पर भी विचार रखे. प्रधानमंत्री ने यहां योग भी किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें