scorecardresearch
 

Patidar Agitation: हार्दिक पटेल का गुजरात सरकार को अल्टीमेटम, मुकदमे वापस लें नहीं तो पाटीदार फिर आंदोलन करेंगे

कांग्रेस गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए अभी से तैयारी में जुट गई है. प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने राज्य की बीजेपी सरकार को पाटीदार युवाओं के बहाने घेरना शुरू कर दिया है. उन्होंने राज्य में फिर से पाटीदार आंदोलन की चेतावनी दी है.

X
हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के डिजिटल सदस्यता अभियान को लेकर पदाधिकारियों के साथ बैठक की हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के डिजिटल सदस्यता अभियान को लेकर पदाधिकारियों के साथ बैठक की
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नरेश पटेल को कांग्रेस में आने का दिया न्योता
  • गुजरात की सत्ता में वापसी को कांग्रेस बेताब
  • हार्दिक के जरिए कांग्रेस पटलों को साधने में जुटी

गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल अब राज्य की बीजेपी सरकार को घेरने के लिए फिर से रणनीति बनाने में लग गए हैं. हार्दिक पटेल ने सीएम भूपेंद्र पटेल की अगुवाई वाली सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि अगर 23 मार्च तक पाटीदारों पर दर्ज मुकदमे वापस नहीं लिए गए तो एक बार फिर पाटीदार आंदोलन करेंगे. हार्दिक पटेल ने इसी संबंध में पाटीदार सामाजिक अग्रणी और खोडलधाम ट्रस्ट के चेयरमैन नरेश पटेल को एक पत्र लिखा है.

'तानाशाही के शिकार हो रहे पाटीदार युवा'

हार्दिक पटेल ने नरेश पटेल को लिखे पत्र में कहा कि पाटीदार समाज के हजारों युवा सरकार की तानाशाही का शिकार बन रहे हैं. मैं आपको राजनीति में जुड़ने के लिए प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के तौर पर खत लिखकर अपील कर रहा हूं. लिखा कि 2015 से मेरे जैसे युवा अन्याय के सामने जंग लड़ रहे हैं. ऐसे युवाओं के लिए आपका यह कदम नई आशा की किरण देगा. आज भी हजारों युवा पाटीदार आंदोलन के वक्त किए गए गलत केस थी पीडित हैं. पाटीदार समाज को अनुभवी नेतृत्व की जरुरत हैं. 

गुजरात में 22-25 फीसदी हैं पाटीदार वोटर

गुजरात में पाटीदार वोटर 22 से 25 प्रतिशत हैं. वैसे माधवसिंह सोंलकी के वक्त में खाम (KHAM) यानी कोली क्षत्रिय, हरिजन, आदीवासी और मुस्लिम को कांग्रेस के साथ जोड़ने के बाद पाटीदार 30 साल से कांग्रेस से रुठे हुए हैं. यही वजह है कि कांग्रेस अब तक सत्ता में आ नहीं पाई है.

45 से 50 सीटों पर है पाटीदार का प्रभाव

गुजरात में 182 सीट में अगर पाटीदार प्रभावित सीट की बात करें तो 45 से 50 सीट पर पाटीदार वोटर का प्रभाव देखने मिलता है. 

नरेश को इसलिए जोड़ना चाहती है कांग्रेस

लेउवा पाटीदार समाज से आने वाले नरेश पटेल को अब कांग्रेस अगर अपने साथ जोड़ती है तो उसका सीधा असर 40 से ज्यादा सीटों पर देखने मिलेगा. 

राजनीति में आना मेरा निजी मामला

हार्दिक पटेल के पत्र के बाद नरेश पटेल मीडिया के सामने आए. उन्होंने ने कहा कि राजनीति में आना, न आना यह उनका निजी मामला है लेकिन खोडलधाम का इससे कोई लेना देना नहीं हैं.

मोदी, राहुल, केजरीवाल ने भी दिया था न्योता

2017 के चुनाव में पाटीदार आदोलन के वक्त प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हों या फिर कांग्रेस के राहुल गांधी या आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल हर कोई खोडलधाम गया था. साथ ही नरेश पटेल को खुद के साथ जोड़ने का प्रयास भी किया था, लेकिन नरेश पटेल ने उस वक्त यह साफ कर दिया था कि वह एक सामाजिक कार्यकर्ता है और वही रहना चाहते हैं.

बीजेपी भी कर रही जोर आजमाइश

कांग्रेस के अध्यक्ष जगदीश ठाकोर ने कहा कि नरेश पटेल को राजनीति में आना चाहिए. कांग्रेस के साथ सरकार के खिलाफ इस न्याय की लड़ाई में में जुटना चाहिए. हालांकि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सी.आर. पाटिल भी नरेश पटेल के साथ मुलाकात कर चुके हैं ताकी सौराष्ट्र में बीजेपी को जो नुकसान 2017 के चुनाव में हुआ था, वो दोबारा न हो. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें