scorecardresearch
 

गुजरातः चुनाव से पहले हिंदुत्व की राजनीति पर लौटी BJP, वार्षिक कैलेंडर से हटाया गया हिजरी साल

बीजेपी के कैलेंडर में हर साल हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही वर्ष को लिखा जाता है. ये परंपरा 2021 तक कायम थी, लेकिन इस साल बीजेपी ने जो कैलेंडर छापा है उसमें कहीं पर भी हिजरी साल नहीं लिखा गया है.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पार्टी 10 साल से छपवा रही है ये कैलेंडर
  • पहली बार हिजरी साल को हटाया गया है

गुजरात विधानसभा चुनाव (Gujarat Assembly Elections) के नजदीक आते ही बीजेपी अब अपने पुराने हिन्दुत्व के एजेंडा पर लौटती हुई दिख रही हैं. बीजेपी पिछले 10 साल से जो वार्षिक कैलेंडर निकालती है उस कैलेंडर में इस बार हिन्दू के विक्रम संवत को लिखा गया है, लेकिन मुस्लिमों का हिजरी साल कैलेंडर से गायब है.

बीजेपी के कैलेंडर में हर साल हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही साल को लिखा जाता है. ये परंपरा 2021 तक कायम थी, लेकिन इस साल बीजेपी ने जो कैलेंडर छापा है उसमें कहीं पर भी हिजरी साल को नहीं लिखा गया हैं. इस मामले में बीजेपी के नेता का कहना है कि, बीजेपी का ये कैलेंडर 98 प्रतिशत हिन्दुओं के जरिए इस्तेमाल किया जाता हैं. यही कारण है कि मुस्लिम के हिजरी साल को निकाल दिया गया है.

बीजेपी के कैलेंडर में हर साल हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही साल को लिखा जाता है.
ये कैलेंडर हर साल छपवाया जाता है

इस मामले में बीजेपी नेता महेश कसवाला का कहना है कि पार्टी के कैलेंडर की एक पंरपरा रही हैं. पिछले 10 साल से कैलेंडर बीजेपी  कार्यकर्ताओं के घर-घर पहुंचाए जाते हैं. हर साल राज्य के अध्यक्ष की सूचना के आधार पर इसे तैयार किया जाता हैं. जिसमें हिन्दुओं के छोटे से छोटे त्योहार को शामिल किया जाता हैं. साथ ही महापुरुषों की जन्म जयंती को भी शामिल किया जाता है. 

दिसंबर में हो सकते हैं विधानसभा चुनाव

बता दें कि चुनाव आयोग ने 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. माना जा रहा है कि 5 राज्यों के बाद इस साल के अंत में गुजरात विधानसभा के चुनाव कराए जा सकते हैं. गुजरात की विधानसभा में 182 सीटें हैं. वहां अभी बीजेपी की सरकार है, जो 1995 से राज्य की सत्ता में है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×