scorecardresearch
 

गुजरात: बीजेपी नेता बोले- महात्मा गांधी ने कभी नहीं पहनी गांधी टोपी, कांग्रेस बोली- इतिहास पढ़े भाजपा

गुजरात में इन दिनों बीजेपी और कांग्रेस के बीच में गांधी टोपी को लेकर जंग छिड़ गई है. इस जंग की शुरुआत गुजरात बीजेपी के संगठन महामंत्री रत्नाकर पांडे ने ट्विटर पर एक ट्वीट के जरिए से की.

कांग्रेस नेता अर्जुन मोढवाडिया कांग्रेस नेता अर्जुन मोढवाडिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी नेता रत्नाकर पांडे के ट्वीट से विवाद
  • बीजेपी नेता बोले- बापू ने नहीं पहनी गांधी टोपी
  • कांग्रेस ने बीजेपी को दी इतिहास पढ़ने की सलाह

गुजरात में इन दिनों बीजेपी और कांग्रेस के बीच में गांधी टोपी को लेकर जंग छिड़ गई है. इस जंग की शुरुआत गुजरात बीजेपी के संगठन महामंत्री रत्नाकर पांडे ने ट्विटर पर एक ट्वीट के जरिए से की. उन्होंने कहा कि कांग्रेसियों ने हर बात पर टोपी पहनाई है. गुजरात और महाराष्ट्र में पहनी जाने वाली सफेद टोपी जिसे कभी गांधीजी ने नहीं पहनी, लेकिन जिसका गुजरात या महाराष्ट्र से कभी कोई पैतृक संम्बध भी नहीं रहा, ऐसे नेहरूजी ने हमेशा यह टोपी पहनी, लेकिन कही गई गांधी टोपी.

रत्नाकर पांडे का ट्वीट
रत्नाकर पांडे का ट्वीट

बीजेपी नेता रत्नाकर पांडे के इस ट्वीट के बाद गुजरात कांग्रेस भड़क गई और इस पर पलटवार किया है. गुजरात कांग्रेस नेता अर्जुन मोढवाडिया ने रत्नाकर पांडे के ट्वीट का जवाब देते हुए ट्विटर पर कहा कि यह गुजरातियों का अपमान है. उनसे मांगी मांगनी चाहिए.

अर्जुन मोढवाडिया की इस ट्वीट के बाद बीजेपी नेता रत्नाकर पांडे ने अपने ट्वीट को डिलीट कर दिया. लेकिन इस मुद्दे को लेकर राजनीति गरमा गयी और रत्नाकर पांडे के समर्थन में गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल आ गए.  उन्होंने रत्नाकर पांडे का समर्थन करते हुए कहा, ''किसी को भी कभी कोई ऐसी तस्वीर नहीं मिली जिसमें गांधी जी को 'गांधी टोपी' पहने देखा जा सके. यहां तक कि मैंने भी ऐसी तस्वीर कभी नहीं देखी. ऐसे में रत्नाकर ने जो कहा, वह सच है.''

डिप्टी सीएम पटेल के बयान के बाद अर्जुन मोढवाडिया ने एक बार फिर उसे हमला बोला. उन्होंने डिप्टी सीएम को ट्वीट कर इतिहास पढ़ने की सलाह दी. मोढवाडिया ने लिखा, ''थोड़ा इतिहास भी पढ़ लिया कीजिए. आप के पुरखों के फोटो भी देख लेना, वे भी गांधी टोपी पहनते थे. भारत भ्रमण दौरान देश की गरीबी देख पू. बापू ने धोती के अलावा कुछ ना पहनने की प्रतिज्ञा की थी. यह सब त्याग और बलिदान की बाते हैं, आप के पल्ले नहीं पड़ेगी.''

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×